Home /News /chhattisgarh /

chhattisgarh congress to apply 50 50 formula to distributes assembly election 2023 ticket check details nodps

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में हड़कंप, कई विधायकों के कट सकते हैं टिकट, पढ़ें स्पेशल रिपोर्ट

कांग्रेस अगर 50-50 के फार्मुले को लेकर आगे बढ़ती है तो कई विधायकों का टिकट कटना तय है.

कांग्रेस अगर 50-50 के फार्मुले को लेकर आगे बढ़ती है तो कई विधायकों का टिकट कटना तय है.

पूरे देश में कांग्रेस चुनाव दर चुनाव सिमटती जा रही है. कुछ ही राज्य बचे हैं जहां कांग्रेस की सरकार अभी भी बनी हुई है. इन राज्यों में से पहले स्थान पर छत्तीसगढ़ है. यहां कांग्रेस सत्ता के साथ सबसे ज्यादा मजबूती के साथ खड़ी है. ऐसे में कांग्रेस अपने 50-50 फॉर्मूले को यहां लागू करने की योजना बना रही है. सूत्रों के मुताबिक छत्तीसगढ़ कांग्रेस में उम्रदराज नेताओं की सूची तैयार कराई जा रही है. ऐसे में माना जा रहा है कि कई नेताओं के टिकट कट सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

रायपुर. राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस ने हाल ही में चिंतन शिविर का आयोजन किया था. इस शिविर में कांग्रेस को मजबूत बनाने की योजनाओं पर चर्चा हुई. शिविर में फिफ्टी-फिफ्टी के फॉर्मूले को लागू करने का फैसला लिया गया. इस फैसले का व्यपक असर अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस में देखने को मिल रहा है. इस फॉर्मूले के तहत छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से लेकर नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव तक में 50 वर्ष से कम उम्र वालों को 50 फीसद टिकट देने का वादा किया गया है. अब छत्तीसगढ़ में यह फॉर्मूला लागू होता दिखाई दे रहा है. फिफ्टी-फिफ्टी के फार्मुले को लेकर कांग्रेस प्रदेश में उम्रदराज नेताओं की सूची तैयार करवा रही है. जिससे कांग्रेस में हड़कंप मच गया है. साथ ही राजनीतिक गलियारों में बयानबाजियों तेज हो गई है.

छत्तीसगढ़ में सत्ताधारी दल कांग्रेस में एक सूची तैयार करने की खबर से नेताओं के बीच हड़कंप मच गया है. कांग्रेस के आला सूत्रों की मानें तो पीसीसी (प्रदेश कांग्रेस कमेटी) डीसीसी (जिला कांग्रेस कमेटी) के माध्यम से जिले में रहने वाले उम्रदराज नेताओं की सूची तैयार की जा रही है. इसी सूची के बल पर फिफ्टी-फिफ्टी का फार्मूला तैयार किया जाएगा. ऐसे में माना जा रहा है कि जब उम्रदराज नेताओं की सूची तैयार होगी तो सत्ता से लेकर संगठन तक में खलबली मचना लाजमी हैं.

क्योंकि मंत्री मंडल में ही उमेश पटेल, रूद्र गुरू को छोड़ कर अन्य सभी मंत्री लगभग अपने जीवन के पचास बसंत पार कर चुके हैं. वहीं विधायकों का भी कमोबेश यही हाल है. इतना ही नहीं संगठन में काबिज बडे़ चेहरे से लेकर बड़े नेता भी उम्रदराज की श्रेणी में आने को तैयार है. सूची को लेकर पीसीसी संचार प्रमुख कहते हैं कि चिंतिन शिविर में जो भी निर्णय लिया गया उसका असर छत्तीसगढ़ सहित देशभर में दिखाई देगा.

भाजपा ने कांग्रेस के इस फॉर्मूले को बताया बेकार
संगठन में कसावट, युवाजोश को मौका सहित अन्य उद्देश्यों के साथ कांग्रेस के भीतर बड़े बदलवा की तैयारियां की जा रही हैं. ऐसे में मुख्य विपक्षीय दल बीजेपी का मानना है कि कांग्रेस चाहे कोई भी फार्मूला तैयार कर ले लेकिन धरातल पर कुछ नहीं होने वाला है. क्योंकि कांग्रेस संगठन नहीं व्यक्ति आधारित पार्टी है. मामले को लेकर बीजेपी प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि कांग्रेस को अपने सभी निर्णयों और नीतियों को पहले गांधी परिवार पर लागू करने की जरूरत है. वहीं कांग्रेस अगर 50-50 के फार्मुले को लेकर आगे बढ़ती है तो कई विधायकों का टिकट कटना तय है. वहीं कई वरिष्ठ नेता सत्ता और संगठन दोनों की रेस से बाहर हो जाएंगे. यही वहज है कि उम्रदराज नेताओं की सूची तैयार होने की खबर मात्र से ही छत्तीसगढ़ कांग्रेस में जबरदस्त हलचल मची हुई है.

वर्तमान में 50 साल के कम उम्र के केवल 25 विधायक
बता दें कि छत्तीसगढ़ विधानसभा की 90 सीटों में से वर्तमान में करीब 25 विधायकों की उम्र 50 वर्ष से कम है. ऐसे में अगर फिफ्टी-फिफ्टी फार्मूला लागू होता है तो 50 वर्ष से कम उम्र वाले 45 लोगों को टिकट मिल जाएगी. भिलाई से विधायक देवेंद्र यादव और खुज्जी विधायक छन्‍नी साहू अभी भी दो ऐसे विधायक हैं जिन्होंने 35 वर्ष की उम्र सीमा को भी पार नहीं किया है. इसके साथ ही भूपेश बघेल सरकार में 50 वर्ष से कम उम्र के दो विधायकों उमेश पटेल और गुरु रुद्र को मंत्री बनाया गया है. बता दें कि पूरे देश में कांग्रेस सबसे ज्यादा मजबूती के साथ छत्तीसगढ़ में बनी हुई है. यहां कांग्रेस ने बीते उपचुनावों में भी शानदार प्रदर्शन किया है.

Tags: Chhattisgarh Congress, Chhattisgarh news, Raipur news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर