मदद की अच्छी पहल: लॉकडाउन में WhatsApp के जरिए ऐसे पहुंचा रहे जरूरत का सामान

लॉकडाउन में लोगों की मदद के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है. (File Photo)
लॉकडाउन में लोगों की मदद के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है. (File Photo)

पूरा देश इन दिनों वैश्विक महामारी (Global Epidemic) कोविड-19 (COVID-19) से जुझ रहा है. कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचने प्रधानमंत्री पीएम नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लिए लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की है.

  • Share this:
कवर्धा. पूरा देश इन दिनों वैश्विक महामारी (Global Epidemic) कोविड-19 (COVID-19) से जुझ रहा है. कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचने प्रधानमंत्री पीएम नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लिए लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की है, क्योंकि इस वायरस का इलाज नहीं, केवल उपाय है जिसे सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के जरिए ही लड़ा जा सकता है. लेकिन इस लॉकडाउन में कुछ ऐसे वर्ग भी है जिनके सामने रोजी-रोटी की समस्या आ रही है. रोज कमाने रोज खाने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. सरकार अपनी ओर से कोशिश कर रही है. पर खुशी की बात यह है कि इन वर्गों के लिए सामाजिक संस्था, युवाओं की टीम आगे आ रही है. बिना किसी स्वार्थ के यह लोग जरूरमंदों की मदद कर रहे हैं. परिवारों को दैनिक जरूरत का सामान, भूखों को खाना, नाश्ता, रहने के लिए अस्थाई ठिकाने की भी व्यवस्था की जा रही है. संकट की खड़ी में ये लोग किसी देवदूत से कम नहीं है. खास बात ये है कि लोगों की मदद करने के लिए सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म जैसे वाट्सअप का इस्तेमाल किया जा रहा है.

लोगों की मदद के लिए अच्छी पहल

कवर्धा जिले के पंडरिया में हेल्पिंग हेंड नाम से एक सामाजिक संस्था है. इस संस्था के लोग आपस में राशि एकत्र कर लोगों की मदद करते है. समिति के सदस्य मोहन सिंह राजपुत ने बताया कि संस्था के माध्यम से जरूरतमंद लोगों की मदद करने का प्रयास किया जा रहा है. लोगों से सोशल मीडिया में जरूरतमंद लोगों की जानकारी देने कहा गया है. वाट्सअप ग्रुप बनाकर लोगों की मदद के लिए नंबर दिए जा रहे हैं ताकि वे संपर्क कर सके. राहत पैकेट बनाए गए है जिसे जरूरतमंद परिवारों तक पहुंचाया जा रहा है. पैदल चल रहे मजदूरों को भोजन भी करा रहे हैं, उनके ठहरने की व्यवस्था नियमों को ध्यान में रखकर की जा रही है.



फ्री में पहुंचा रहे सामान
कवर्धा शहर में भी मदद करने वाले लोग आगे आ रहे हैं. ज्वाइन हैंड्स नाम की सामाजिक संस्था लोगों को मुफ्त में मास्क का वितरण कर रही है. संस्था के सदस्य शैलेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि अब तक पांच हजार से ज्यादा लोगों को मास्क दिया जा चुका है. समिति के सदस्य जरूरतमंद क्षेत्र में जाकर मास्क बांट रहे है जिसमें ठेले वाले, सब्जी वाले, गरीब वर्ग, भीख मांगने वाले, मजदूर वर्ग जैसे के लोगों तक मदद पहुंचाई जा रही है.

कवर्धा में सोशल मीडिया के जरिए लोगों की मदद की जा रही है.


 

शंकराचार्य जनकल्याण न्यास के ट्रस्टी सदस्य चंद्रप्रकाश उपाध्याय ने बताया कि कवर्धा में संचालित शंकराचार्य जनकल्याण न्यास के माध्यम से विपदाग्रस्त जरूरतमंद परिवार के लिए यथासंभव मदद पहुंचाई जा रही है जिसके लिए एक वाट्सअप नंबर (WhatsApp Number) जारी किया गया है. इस नंबर पर खुद जरूरमंद  परिवार के सदस्यों या कोई शख्स जरूरतमंद परिवारों की जानकारी दे सकता है. उन्होंने बताया कि न्यास की ओर से दैनिक उपयोग के सामाग्री का राहत पैकेट बनाया गया है जिसे बताए पते पर निशुल्क पहुंचाया जा रहा है.

मजदूरों तक भी मदद पहुंचाई जा रही है.


दुकानदार ऐसे कर रहे मदद

इसके अलावा जिले के प्रमुख किनारा दुकान भी लोगों को निशुल्क सामान तो नहीं दे रहे है पर एक हजार से अधिक की खरीदी पर घर पहुंच सेवा जरूर दे रहे हैं. लोगों की मांग के मुताबिक सामान पैक कर सुरक्षा के मानकों को पूरा करते हुए उनके घर पहुंचा रहे है. साथ ही जिला प्रशासन भी अपनी ओर से जरूरतमंद लोगों की मदद कर रही है.

ये भी पढ़ें: 

आइसोलेशन में तब्लीगी जमात में शामिल 120 लोग, COVID-19 पॉजिटिव 3 मरीज डिस्चार्ज 

अच्छी खबर: रायपुर AIIMS में टेलिमेडिसन सेवा शुरू, इन नंबरों पर कॉल कर ले सकते है सलाह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज