लाइव टीवी

73 का दूल्हा, 67 की दुल्हन! लिव इन रिलेशनशिप में रहे 50 साल, अब बच्चों ने करवाई शादी
Kawardha News in Hindi

News18 Chhattisgarh
Updated: February 17, 2020, 10:45 AM IST
73 का दूल्हा, 67 की दुल्हन! लिव इन रिलेशनशिप में रहे 50 साल, अब बच्चों ने करवाई शादी
पूरे जिले में चर्चा का विषय बन गई है ये शादी.

अपने पिता की इच्छा पूरा करते हुए बेटे ने हिंदू रीति-रिवाज से बुजुर्ग दंपति की शादी कराई.

  • Share this:
कवर्धा. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कवर्धा (Kawardha) जिले में एक अनोखी शादी (Unique Marriage) देखने को मिली. यहां 73 साल के दूल्हे (Groom) ने 67 साल की दुल्हन (Bride) के साथ शादी रचाई. बकायदा सात फेरे भी लिए. जो अरमान 50 साल पहले था वो अब जाकर बेटे ने पूरा किया. अपने पिता की ईच्छा पूरा करते हुए बेटे ने हिंदू रीति -रिवाज से बुजुर्ग दंपति की ऐतिहासिक शादी कराई. इस शादी के सैंकड़ों लोग गवाह बने. कवर्धा जनपद के ग्राम खैरझिटी में रहने वाले सुकाल निषाद 73 साल और गौतरहिन बाई निषाद ने 14 फरवरी को यानी कि वेलेंटाइन डे (Valentine's Day) पर प्रेम-विवाह में बंध गए. हांलाकि इनकी तीन संतानें हैं. दो बेटा और एक बेटी है, जिनकी भी शादी हो गई है.

दरअसल सुकाल राम को इस बात का मलाल था कि उसकी शादी धूमधाम से और रीति रिवाज के हिसाब से नहीं हुई थी. इसे लेकर गांव में चर्चा था कि मरने के बाद उसे मोक्ष की प्राप्ति नहीं होगी. लिहाजा गांव वाले और परिवार की रजामंदी से गांव में चल रहे नवधा रामायण स्थल में सबकी सहमति से उसका वरमाला कार्यक्रम हुआ. तेल हल्दी लगाया गया. पूरी तरह से परंपरा का निर्वहन करते हुए शादी रचाई गई, जो पूरे जिले में चर्चा का विषय रहा.

ऐसे लव स्टोरी नहीं सुनी होगी आपने...
दरअसल, ये पूरा मामला कवर्धा के ग्राम खैरझिटी का है. इस प्रेम कहानी की शुरुआत पचास साल पहले हुई थी, जब सुकाल राम अपने मित्र के लिए लड़की देखने बेमेतरा जिले के ग्राम बिरसिंघी गए थे. जिस लड़की को देखने गए थे, उसकी छोटी बहन थीं गौतरहीन निषाद, जो सुकाल को पसंद आ गई. लेकिन उस समय सुकाल के परिवार की आर्थिक स्थिती ठीक नहीं थी. लिहाजा दोनों शादी के बंधन में नहीं बंध सके. हालांकि बाद में सुकाल गौतरहीन को बिना शादी किए बीवी मानकर घर ले आया.



दरअसल सुकाल राम को इस बात का मलाल था कि उसकी शादी धूमधाम से और रीति रिवाज के हिसाब से नहीं हुई थी. इसे लेकर गांव में चर्चा थी.




सुकाल राम के बेटे धन्नू निषाद ने बताया कि बिना शादी के मरने पर मोक्ष नहीं मिलेगा. गांव वाले की सलाह से परिवार की मर्जी के अनुसार शादी रचाई गई. सबने इस शादी में बढ़ चढ़कर हिस्सा,बरात निकाली गई और धूमधाम से शादी कराई गई.

गांव वाले की सलाह से परिवार की मर्जी के अनुसार शादी रचाई गई.


शादी की हो रही चर्चा

ग्रामीणों ने बताया कि पहले किसी परिस्थिती वश इनकी शादी नहीं हो सकी थी. गांव में चर्चा का विषय था कि दोनों की शादी नहीं हुई है, तो दोनों मरने के बाद प्रेत बनकर गांव में घुमेंगे. इसलिए गांव वालों की सहमति के बाद परिवार वालों की रजामंदी से शादी कराने का निर्णय लिया गया.  पूरे विधि विधान के साथ शादी कराई गई है.

ये भी पढ़ें- FB पर दोस्ती के बाद हुआ प्यार, शादी रचाने अमेरिका से छत्तीसगढ़ पहुंची 'गोरी मेम' 

मेगा ब्लॉक: 27 फरवरी तक रेल यात्रा करने वालों को होगी परेशानी, रद्द है ये 14 ट्रेन 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कवर्धा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 9:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading