अपना शहर चुनें

States

स्वच्छता सर्वेक्षण 2019: कवर्धा नगर पालिका के दावों से उलट है हकीकत

स्वच्छता सर्वेक्षण 2019: कवर्धा नगर पालिका के दावों से उलट है हकीकत
स्वच्छता सर्वेक्षण 2019: कवर्धा नगर पालिका के दावों से उलट है हकीकत

कवर्धा जिले में नगर पालिका की लापरवाही का नतीजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है. साफ-सफाई के अभाव में शहर में गंदगी का आलम पसरा हुआ है. वहीं नगर पालिका का कहना है कि मोबाइल एप्स के माध्यम से शिकायतों के निराकरण समेत सभी पैरामीटर को पूरा कर लिया गया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में नगर पालिका की लापरवाही का नतीजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है. साफ-सफाई के अभाव में शहर में गंदगी का आलम पसरा हुआ है. प्रमुख जगहों को छोड़ दिया जाए, तो अंदर की गलियों में गंदगी का ही नजारा देखने को मिलता है.

बता दें कि शहर की नालियां महीनों से साफ नहीं हुईं हैं. वहीं नगर पालिका स्वच्छता में अपनी रैंकिंग सुधारने के लिए सड़कों को पानी से धो रही है, लेकिन नालियों की ओर कोई सूध लेने वाला नहीं है. पालिका तो सिर्फ अपनी रेटिंग सुधारने की फिराक में है. महज दिखावे के लिए ही नगर की सफाई अभियान चलाया जा रहा है.

कवर्धा नगर पालिका परिषद के सीएमओ सुनील अग्रहरि ने कहा कि बीते 4 जनवरी 2019 से स्वच्छता सर्वेक्षण में नगर पालिका परिषद द्वारा सेवन स्टार रेटिंग के लिए सिटी की प्रोफाइल बनाकर प्रसित कर दिया गया है. इसमें मोबाइल एप्स के माध्यम से शिकायतों के निराकरण समेत सभी पैरामीटर को पूरा कर लिया गया है. ऐसे में जल्द ही जनवरी माह में भारत सरकार द्वारा गठित टीम यहां आएगी. साथ ही  स्वच्छता सर्वेक्षण के अंतर्गत सेवन स्टार रेटिंग का सत्यापन करेगी.



ये भी देखें:- VIDEO: कवर्धा में राशन दुकानों के लिए भवन की कमी से जूझ रहा खाद्य विभाग
ये भी देखें:- VIDEO: कवर्धा का बढ़ता क्राइम ग्राफ चिंता का सबब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज