साल में एक बार सिर्फ एक दिन के लिए खुलती है गुफा, ये मन्नत लेकर आते है दंपति!

हर साल भादो माह में नवमी तिथि के पहले बुधवार को साल में एक बार और एक ही दिन के लिए खोला जाता है.

Vivek Shrivastava | News18 Chhattisgarh
Updated: September 10, 2019, 4:26 PM IST
साल में एक बार सिर्फ एक दिन के लिए खुलती है गुफा, ये मन्नत लेकर आते है दंपति!
इस पहाड़ी से बेहद अनोखी मान्यता भी जुड़ी हुई है,
Vivek Shrivastava | News18 Chhattisgarh
Updated: September 10, 2019, 4:26 PM IST
कोण्डागांव.  छत्तीसगढ़ के कोण्डागांव (Kondagaon) जिले की एक अनोखी गुफा अपने खास मान्यता के लिए फेमस है. फरसगांव क्षेत्र में आलोर (Allora) पंचायत की पहाड़ी में एक एसी गुफा है जो साल में एक बार महज एक दिन के लिए ही खुलती है. इस गुफ़ा (Cave) मंदिर का श्रद्धालुओं को बेसब्री से इंतजार रहता है. लोगों की मान्यता है कि यहां संतान पाने की मन्नत लेकर दंपत्ति आते है और उनकी मनोकामना पूरी भी होती है. हर साल भादो माह में नवमी तिथि के पहले बुधवार को साल में एक बार और एक ही दिन के लिए खोला जाता है. साल में एक दिन खुलने वाले इस गुफा का द्वार पत्थरों से बंद किया जाता है जिसे विधि विधान से खोला जाता है. गुफा खोलते ही दरवाजे पर जो भी पग चिन्ह मिलता है उससे बस्तर ही नहीं पूरे देश में भविष्य में होने वाली हलचल का अनुमान लगाया जाता है. हम किसी तरह के अंधविश्वास को फैला नहीं रहे है. इस गुफा को लेकर सिर्फ ये यहां के लोगों की मान्यता मात्र है.

ये मन्नत लेकर आते है दंपति

वरिष्ठ नागरिक रामलाल कोर्राम का कहना है कि पहाड़ी में एक गुफा है जिसमे लिंगेश्वरी माता विराजमान है. इस गुफा का एक ही प्रवेश द्वार है जो सुरंगनुमा है जहां बैठकर या लेटकर ही प्रवेश किया जा सकता है. यहां मनौती मांगने का तरीका भी अपने आप में निराला है. रामलाल बताया है कि संतान की कामना लेकर आए दंपतियों को यहां खीरा चढ़ाना अनिवार्य है.

chhattisgarh, kondagaon, allora cave in kondagaon, cave opens for one day in a year, unique cave in kondagaon, married couple come with a vist to have baby in this cave, छत्तीसगढ़, कोण्डागांव, कोण्डागांव की अनोखी पहाड़ी, साल में एक दिन खुलने वाली गुफा, साल में एक बार खुलने वाली गुफा, कोण्डागांव की अनोखी गुफा
स्थानीय निवासी "लिंगई याया "(लिंगई माता ) की पूजा करते है.


इसी खीरे को पुजारी द्वारा पूजा के बाद दंपति को वापस किया जाता है जिसे दंपति द्वारा स्वयं के नाखून से फाड़कर कडुआ भाग सहित ग्रहण करना होता है. पिछले साल एक हजार सत्ताइस लोगो ने संतान प्राप्ति की मन्नत मांगी है. वहीं 337 लोगों की पिछले वर्ष मन्नत पूरी हो चुकी है. आलोर की पहाड़ी सिर्फ श्रद्धा का ही स्थान नहीं है यहां पर बेहतर सामाजिक व्यवस्था का नजारा भी देखने को मिलता है. समाज के हर वर्ग की जिम्मेदारी तय रहती है. जिसे जो काम दिया गया है, वर्षों से वे ही उस काम को पूरा कर रहे है.

होती है इनकी पूजा

गुफा के अंदर बीचोंबीच पत्थर के लिंग की आकृति है जिसकी ऊंचाई डेढ़ से दो फीट है. इस आकृति को स्थानीय निवासी "लिंगई याया "(लिंगई माता )पुकारते हैं. यहां संतान प्राप्ति की कामना लिए दंपति आते हैं. कठिन चढ़ाई चढ़ कर लिंगेश्वरी माता के दर्शन का नियम है. दर्शन करने कंकड़ भरी राहो से ऊपर जाना होता है वापस सीढ़ियों से आने की व्यवस्था है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

आर्थिक तंगी में रायपुर नगर निगम, 4 करोड़ का बिजली बिल पेंडिंग 

 

फैक्ट्री की मशीन में फंसकर मजदूर की मौत, परिजनों ने किया हंगामा  

अवैध संबंध के चलते प्रेमी के साथ मिलकर महिला ने घोट दिया पति का गला  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोंडागांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 4:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...