निर्माण के 3 माह बाद भी रैन बसेरा का नहीं हुआ लोकार्पण, राजनीतिक बयानबाजी शुरू

गरीबों को सहारा देने के लिए बनाया गया रैन बसेरा लोकार्पण के तीन माह बाद भी शुरू नहीं हो सका है. अब इसी रैन बसेरा को लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है.

Vivek Shrivastava | News18 Chhattisgarh
Updated: February 14, 2019, 12:01 PM IST
निर्माण के 3 माह बाद भी रैन बसेरा का नहीं हुआ लोकार्पण, राजनीतिक बयानबाजी शुरू
निर्माण के 3 माह बाद भी रैन बसेरा का नहीं हुआ लोकार्पण, राजनीतिक बयानबाजी शुरू
Vivek Shrivastava | News18 Chhattisgarh
Updated: February 14, 2019, 12:01 PM IST
छत्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले में गरीबों को सहारा देने के लिए बनाया गया रैन बसेरा लोकार्पण के तीन माह बाद भी शुरू नहीं हो सका है. अब इसी रैन बसेरा को लेकर राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है. लोकार्पण की खानापूर्ति कर प्रशासन इसके उद्देश्य को ही भुला बैठा है.

निर्धन और गरीबों के लिए न्यूनतम शुल्क में आश्रय देने के लिए दीनदयाल अंत्योदय योजना अंतर्गत 49.60 लाख के लागत से निर्मित आश्रय स्थल रैन बसेरा बनाया गया है. विधानसभा चुनाव के पहले 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के मौके पर बस्तर सांसद दिनेश कश्यप, पूर्व मंत्री लता उसेंडी के विशिष्ट आतिथ्य में लोकार्पण तो करवा दिया, लेकिन भवन में अभी भी प्रशासन का ताला लगा हुआ है.

लिहाजा, इसकी वजह से जरूरी कार्य से शहर पहुंचे मजबूर गरीब और दूरस्थ अंचल के लोगों को आज भी बस स्टैंड या बाजार शेड में सोते-जागते रात गुजारने को मजबूर हैं. इसे लेकर नगर पालिका के उपाध्यक्ष मनीष श्रीवास्तव ने कहा कि विधानसभा में फायदा लेने के लिए बीजेपी सरकार के लोगों ने अधूरे भवन का लोकार्पण कराया, लेकिन उसका फायदा नहीं मिला.



वहीं बीजेपी के जिला अध्यक्ष मनोज जैन ने कहा कि रैन बसेरा गरीब और जरूरतमंद लोगों को मदद देने के लिए बनाया गया है. इसे राजनीतिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए बल्कि लोगों को कैसे फायदा दिलाए इस बारे में सोचना चाहिए.

ये भी पढ़ें:- कोण्डागांव: मनरेगा भुगतान में गड़बड़ी, कार्यक्रम अधिकारी पर कार्रवाई

ये भी पढ़ें:- बच्चों के लिए कचरे की गाड़ी में भिजवाई मिठाई, आपत्ति उठी तो दिया ये जवाब
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...