छत्तीसगढ़ः हाथी भगाने का अनूठा प्लान- घर में न रखें महुए की शराब, दूर रहेंगे गजराज

हाथी से बचाव के सुझाए गए तरीके. (File Photo)

कलेक्टर किरण कौशल की उपस्थिति में सरगुजा से आए हाथी विशेषज्ञ प्रभात कुमार दुबे ने ग्रामीणों को हाथियों के हमले के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों और बचाव के संबंध में जानकारी दी.

  • Share this:
कोरबा. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरबा (Korba) जिले के कटघोरा के सामुदायिक भवन में शुक्रवार को हाथी प्रभावित गांवों के ग्रामीणों को हाथियों के हमले (Elephant Attack) से बचाव के तरीके सिखाए गए. कलेक्टर किरण कौशल की उपस्थिति में सरगुजा से आए हाथी विशेषज्ञ प्रभात कुमार दुबे ने ग्रामीणों को हाथियों के हमले के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों और बचाव के संबंध में जानकारी दी. इस दौरान ग्रामीणों को सलाह दी गई कि वे अपने घरों में महुआ या महुए से बनी शराब न रखें, क्योंकि इसकी गंध हाथियों को आकर्षित करती है.


500 से अधिक ग्रामीण कार्यशाला में हुए शामिल
कलेक्टर किरण कौशल की पहल पर जिला प्रशासन द्वारा आयोजित इस कार्यशाला में हाथी प्रभावित पोड़ी उपरोड़ा ब्लॉक के 32 गांवों के 550 से अधिक ग्रामीण शामिल हुए. वन विभाग और राजस्व विभाग सहित पंचायत के सचिवों ने भी हाथियों द्वारा हमला किए जाने पर की जाने वाली सावधानियों के बारे में जाना. इस कार्यशाला में पचरा, सलिहाभांठा, दमोहकुंडा, मड़ई, बंजारी, मातिन, बनतराई, केशलपुर, बरभांठा, रिंगनिया, चोटिया, पोड़ीखुर्द, बुका, लालपुर, रौंदे, बुचापुर, सरभोका, लम्ना, करगामार, मडीडांड, कुरूभांठा जैसे हाथी प्रभावित गांवों के ग्रामीण शामिल हुए. जिला प्रशासन की ओर से अपर कलेक्टर  संजय अग्रवाल, एडीएम सूर्यकिरण और ए खलखो सहित वनविभाग के एसडीओ एके तिवारी और प्रभावित रेंज के वन परिक्षेत्र अधिकारी भी मौजूद रहे.


हाथी प्रभावित गांवों में बनेंगे सक्रिय युवाओं के मित्र दल
कलेक्टर किरण कौशल ने हाथियों से बचाव और सुरक्षा के लिए सभी प्रभावित गांवों में बैठक कर 10-10 सक्रिय युवाओं का चयन कर हाथी मित्र दल बनाने के निर्देश वन अमले को दिए, उन्होंने ऐसे सभी युवाओं को हाथियों के हमले से बचाव, सुरक्षा और जन जागरूकता के लिए हाथी विशेषज्ञों से प्रशिक्षण दिलाने के निर्देश दिए है. कलेक्टर ने इन युवाओं को हाथियों के व्यवहार, उनके आकृर्षित होने की चीजों सहित हमले पर किए जाने बचाव संबंधी कामों की पूरी जानकारी देने के निर्देश हाथी विशेषज्ञों को दिए.


कोटवारों के पास रहेंगे हाथी संकट प्रबंधन किट
कलेक्टर किरण कौशल ने हाथी प्रभावित गांवों में कोटवारों को हाथी संकंट प्रबंधन किट प्रदान करने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए. इस किट में टॉर्च, दवाइयां, हाथी को भगाने के लिए साउंड बॉक्स, सीटी-डंडा के साथ-साथ मशाल और ढोल मंजीरा, झांझ जैसी वस्तुएं होंगी. हाथी द्वारा हमला किए जाने पर उनसे बचाव या उन्हें भगाने के लिए तेज आवाज करने जैसी जुगत इस किट के जरिए की जा सकेगी. यह किट कोटवारों के पास रहेगी और आवश्यकता पड़ने पर हाथी मित्र दल के युवाओं को दी जाएगी.



महुआ और अनाज ना रखें घर में, शराब भी नहीं बनाएं ग्रामीण

ग्रामीणों से चर्चा के दौरान कलेक्टर किरण कौशल ने कहा कि हाथियों से सुरक्षा के लिए सभी को मिल-जुलकर प्रयास करने होंगे. उन्होंने कहा कि हाथियों को आकर्षित करने वाली चीजों जैसे- महुआ, महुए की शराब को ग्रामीण अपने घरों में ना रखें. धान एवं मक्का को भी बोरों में भरकर ग्राम पंचायत की किसी पक्की बिल्डिंग, सामुदायिक भवन या घर में बोरों पर पहचान चिन्ह लगाकर या नाम लिखकर एक साथ रखें. कलेक्टर ने कहा कि हाथी कच्चे घरों को आसानी से क्षतिग्रस्त कर देते हैं, लेकिन पक्की बिल्डिंगों को नहीं तोड़ पाते है. कलेक्टर ने ग्राम पंचायतों में एक-एक पक्की मजबूत बिल्डिंग को चिन्हांकित कर उसे हाथियों के हमले के दौरान ग्रामीणों के ठहरने, सोने आदि के लिए भी उपयोग करने के निर्देश  अधिकारियों को दिए.







 

ये भी पढ़ें: 

बड़ा सड़क हादसा, बलौदा जा रही बस अनियंत्रित होकर पलटी, हादसे में 20 यात्री घायल 

मंत्री अमरजीत भगत का बड़ा ऐलान, कहा- मौसम को देखते हुए बढ़ाया जाएगा धान खरीदी का समय

धान खरीदी पर मंत्री टीएस सिंहदेव का बड़ा बयान, प्रदेश सरकार को दी ये सलाह 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.