कोरबा में कोसा की कालाबाजारी का भंडाफोड़, वन विभाग ने की छापेमारी

एसडीओ वन हेमलता यादव ने बताया कि मान गुरु पहाड़ पर कोसा तस्करों द्वारा बड़ी संख्या में अवैध रूप से पेड़ों की कटाई कोसा लगाने के लिए कर दी गई थी.

Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: June 14, 2019, 7:14 PM IST
कोरबा में कोसा की कालाबाजारी का भंडाफोड़, वन विभाग ने की छापेमारी
कोरबा के कटघोरा वन मंडल में वन विभाग ने मुखबिर की सूचना पर कोसा की कालाबाजारी को पकड़ा है.
Abdul Aslam
Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: June 14, 2019, 7:14 PM IST
छत्तीसगढ़ की कोसानगरी कहे जाने वाले कोरबा में कोसा की कालाबाजारी का भंडाफोड़ हुआ है. वन मंडल की टीम ने छापामारी कर बड़ी मात्रा में लावारिस हालत में पड़े कोसा को जब्त किया है. कोरबा के कटघोरा वन मंडल में वन विभाग ने मुखबिर की सूचना पर कोसा की कालाबाजारी को पकड़ा है. टीम ने बीते गुरुवार की देर रात छापेमार कार्रवाई करते हुए कटघोरा शासकीय पशु चिकित्सालय से लावारिस हालत में लाखों की संख्या में कोसा फल से भरे बोरे बरामद किए हैं.

एसडीओ वन हेमलता यादव ने बताया कि मान गुरु पहाड़ पर कोसा तस्करों द्वारा बड़ी संख्या में अवैध रूप से पेड़ों की कटाई कोसा लगाने के लिए कर दी गई थी. इसके बाद से वन विभाग छोटे-छोटे सुराग इकट्ठा कर रही थी. वनमंडल कटघोरा द्वारा यह बड़ी कार्रवाई करते हुए पशु चिकित्सक में दबिश दी. इससे पहले एक मकान में छापा मार तलाशी ली गई पर वहां कुछ नही मिला.



मिलती है मोटी रकम
कोसा का कारोबार देश से लेकर विदेशों तक फैला हुआ है. मोटी रकम कमाने के चक्कर में तस्कर ग्रामीणों के साथ पहले जंगल के पेड़ों में कोसा तैयार करते हैं. उसके बाद बड़े-बड़े पेड़ को काट देते हैं. इस मामले में अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है. कोसा का अवैध रूप से भंडारण करने वालों तक पहुंचने की कोशिश में वन अमला जुटा है. बता दें कि कोरबा में कोसा की अवैध तस्करी मामले की शिकायत लगातार वन मंडल को मिल रही थी. इसके बाद मुखबिर की सूचनापर योजनाबद्ध तरीके से छापामार कार्रवाई की गई है.

ये भी पढ़ें: बिजली कटौती की अफवाह फैलाने के आरोप में राजद्रोह का केस, BJP ने कहा- आपातकाल की ओर.. 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...