Assembly Banner 2021

छत्तीसगढ़: 14 माह की सृष्टि इस दुर्लभ बीमारी से जूझ रही है, इलाज के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से गुहार

कोरबा की सृष्टि महाराष्ट्र की तीरा की तरह ही दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (SMA) टाइप 1 से पीड़ित है.

कोरबा की सृष्टि महाराष्ट्र की तीरा की तरह ही दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (SMA) टाइप 1 से पीड़ित है.

महाराष्ट्र की 5 महीने की मासूम तीरा के बाद अब छत्तीसगढ़ के कोरबा की 14 माह की मासूम सृष्टि भी दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाइप-1 से जूझ रही हैं. इनके इलाज के लिए कोरबा की सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने पीएम नरेंद्र मोदी और कोयला मंत्री पीयूष गोयल को चिट्ठी लिखी है.

  • Last Updated: February 24, 2021, 9:42 AM IST
  • Share this:
कोरबा.  कोरबा में 14 माह की मासूम सृष्टि को दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाइप-1 है. ऐसे में कोयला मंत्रालय उसके इलाज की समुचित व्यवस्था करे. कोरबा की लोकसभा सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने प्रधानमंत्री और कोयला मंत्री से गुहार लगाई है कि 14 माह की  मासूम  सृष्टि मांसपेशियों की दुर्लभ बीमारी से जूझ रही है. उसके इलाज की हर समुचित और मुमकिन व्यवस्था की जाए. सांसद महंत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कोयला मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा है.

महंत ने विशेष तौर पर कोयला मंत्री को एसईसीएल के विभागीय अपोलो बिलासपुर में ईलाज की व्यवस्था करने के निर्देश दें. कोल कंपनी दक्षिण पूर्वी कोलफील्ड्स (SECL) की दीपका खदान में ओवरमैन के पद पर कार्यरत सतीश कुमार की मासूम बेटी सृष्टि मांसपेशियों की दुर्लभ बीमारी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाइप-1 से पीडि़त है. जिसके ईलाज में भारी-भरकम खर्च आएगा. करीब 16 से 22 करोड़ अनुमानित है. इसलिए कोरबा सांसद ज्योत्सना महंत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र प्रेषित कर आग्रह किया है कि सृष्टि के ईलाज की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने की दिशा में विशेष तौर पर मानवीय पहल करेंगे.

अपोलो बिलासपुर में चल रहा है इलाज 



सांसद ने कोयला मंत्री पीयूष गोयल को अलग से पत्र भेजकर आग्रह किया है कि सृष्टि SECL कर्मी की बेटी  है, आवश्यक होगा कि प्रधानमंत्री को प्रेषित पत्र पर आवश्यक पहल करने के साथ-साथ सृष्टि का ईलाज वर्तमान में अपोलो बिलासपुर में चल रहा है, जिसके लिए जन सहयोग से भी राशि जुटाई गई है. वह राशि पर्याप्त नहीं है. सांसद ने कोयला मंत्री से आग्रह किया है कि सृष्टि का प्रारंभिक तौर पर हो रहे ईलाज में एसईसीएल प्रबंधन पूरी तरह जिम्मेदारी का निर्वहन करे. इसके लिए आवश्यक निर्देश देने का आग्रह सांसद ने किया है, मासूम सृष्टि के परिजन ने प्रधान  मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री, समाज सेवी संगठनों और आम लोगो ने मदद की अपील की है.
इसी तरह की बीमारी के लिए पीएम मोदी कर चुके हैं मदद 

इससे पहले इसी तरह के एक अन्य मामले में मुंबई की 5 महीने की बच्ची तीरा के इलाज के लगने वाले 16 करोड़ के इंजेक्शन में लगने वाले टैक्स को PMO ने माफ कर दिया गया था. तीरा को लगने वाला इंजेक्शन अमेरिका से मंगाया जाना है, जो 16 करोड़ रुपये में आएगा. ये कीमत 6 करोड़ का टैक्स माफ करने के बाद हुई है, वरना इंजेक्शन की कीमत 22 करोड़ रुपये हो रही थी.

तीरा की तरह ही दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त है कोरबा की सृष्टि
महाराष्ट्र की मासूम तीरा की तरह की कोरबा की सृष्टि भी स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (SMA) टाइप 1 से पीड़ित है. जिसके इलाज के लिए इंजेक्शन लगाया जाएगा, जिसकी कीमत लगभग 16 करोड़ रुपए होगी. तीरा के इलाज के लिए महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्टी लिखी थी. जिसके बाद पीएम मोदी ने इस पर लगने वाला टैक्‍स माफ कर दिया. अब सृष्टि के इलाज के लिए ज्योत्सना महंत ने पीएम मोदी और कोयला मंत्री को पत्र लिखा है. इसका क्या असर होता है आने वाले दिनों में पता चलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज