लाइव टीवी

छत्तीसगढ़ की गोल्डन गर्ल श्रुति यादव का लंदन में सम्मान, मिला She Inspire Award 2020
Korba News in Hindi

Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: March 12, 2020, 4:26 PM IST
छत्तीसगढ़ की गोल्डन गर्ल श्रुति यादव का लंदन में सम्मान, मिला She Inspire Award 2020
साल 2018 में श्रुति छत्तीसगढ़ राज्य से 10 मीटर एयर पिस्टल श्रेणी में राज्य के इतिहास की पहली शूटर बन गईं

यह पुरस्कार यूके और दुनिया के अन्य हिस्सों में रहने वाली भारतीय महिलाओं को सशक्त और प्रोत्साहित करने के लिए बनाया गया है.

  • Share this:
कोरबा.  छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की अंतर्राष्ट्रीय शूटिंग खिलाड़ी (International shooting player) गोल्डन गर्ल श्रुति यादव (Shruti Yadav) को महिला दिवस (Women's Day) के अवसर पर ब्रिटिश संसद में "शी इंस्पायर अवॉर्ड 2020" (She Inspire Award 2020)  से सम्मानित किया गया है. उन्होंने ब्रिटिश सांसद  (British MP)बॉब ब्लैकमैन (पद्मश्री 2020), ब्रिटिश सांसद जॉय मोरिस और ब्रिटिश सांसद वीरेंद्र शर्मा से पुरस्कार प्राप्त किया. श्रुति यादव को लंदन (London) में भारत (India) के उच्चायोग रूचि घनश्याम का बधाई संदेश भी मिला है. यह पुरस्कार यूके और दुनिया के अन्य हिस्सों में रहने वाली भारतीय महिलाओं को सशक्त और प्रोत्साहित करने के लिए बनाया गया है. इंस्पायरिंग इंडियन वुमन ने शी इंस्पायर अवार्ड 2020 के सेरेमनी की मेजबानी की.

मालूम हो कि यह पुरस्कार उन महिलाओं के लिए है जिन्होंने सफलता हासिल करने के लिए अपने जीवन में कुछ असाधारण किया है और सफलता हासिल कर अब दूसरों को प्रेरणा दे रही है. श्रुति यादव की कहानी भी सच्ची प्रेरणादायक कहानी में से एक है. कोरबा जिले की रहने वाली श्रुति ने  खेल सुविधाओं के लिए काफी स्ट्रगल किया है. उन्होंने इंटरनेट के माध्यम से शूटिंग का ज्ञान लिया और अपने कोच से फोन के माध्यम से ही मार्गदर्शन लिया.

कड़ी मेहनत से हासिल किया मुकाम



श्रुति यादव 2016 में अपनी राष्ट्रीय शूटिंग चैंपियन के लिए प्रशिक्षण और तैयारी कर रही थी. राष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए कुछ ही दिन शेष थे कि अचानक उन्हें डेंगू के साथ कम प्लेट लेट काउंट का सामना करना पड़ा. इस वजह से श्रुति ने 2016 में राष्ट्रीय चैंपियनशिप को मिस कर दिया था. दो महीने बाद अचानक उन्हें फिर से बुखार आ गया. इस बार इलाज के दौरान हुई लापरवाही की वजह से श्रुति के शरीर में प्रतिक्रिया हुई और पूरे शरीर में काले पड़ गया था.



यह पुरस्कार उन महिलाओं के लिए है जिन्होंने सफलता हासिल करने के लिए अपने जीवन में कुछ असाधारण किया है और सफलता हासिल कर अब दूसरों को प्रेरणा दे रही है.


श्रुति के पूरे शरीर में सूजन आ गई. आंखों को भी काफी नुकसान पहुंचा था. वो देख नहीं पा रही थी. इसके बाद उनके शरीर की त्वचा छीलने लगी. डॉक्टरों के मुताबिक श्रुति स्टीवन जोंसोन सिंड्रोम से पीड़ित थी जो की एक डेडली डिज़ीज़ है. आँखों की लेजर सर्जरी करवाने के बाद वह फिर से दुनिया देख पा रही है.
उन्होंने फिर से शूटिंग का अभ्यास करना शुरू कर दिया और फिर से 2017, 2018 और 2019 में नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में पहुंची.

रच दिया इतिहास

साल 2018 में श्रुति छत्तीसगढ़ राज्य से 10 मीटर एयर पिस्टल श्रेणी में राज्य के इतिहास की पहली शूटर बन गईं जिन्होंने भारतीय निशानेबाजी टीम ट्रायल के लिए क्वॉलिफाइ किया. साल 2019 में फिर से उन्होंने भारतीय टीम के लिए क्वॉलिफाइ किया. फिलहाल  श्रुति यादव बाल्को में पावर सेल्स डिपार्टमेंट में काम करती है. ऑफिस के बाद वो शूटिंग का अभ्यास करती हैं.

फिलहाल श्रुति यादव बाल्को में पावर सेल्स डिपार्टमेंट में काम करती है. ऑफिस के बाद वो शूटिंग का अभ्यास करती हैं.


श्रुति यादव बताती हैं कि उपलब्धियां दोस्तों के बिना यह संभव नहीं था. कई बार दोस्तों ने शूटिंग स्पर्धा में भाग लेने और शूटिंग उपकरण खरीदने के लिए पैसे दिए. श्रुति यादव ने अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में पदक जीता है, उन्होंने 2019 में इटली में यूरोपेन मास्टर खेलों में दो स्वर्ण पदक जीते हैं और उन्हें विश्व मास्टर 2021 खेलों के लिए भी चुना गया है जो 2021 में कंसाई जापान में होने जा रहा है. बास्केटबॉल में श्रुति यादव राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी भी थीं.

 
ये भी पढ़ें: 






News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोरबा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 12, 2020, 4:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading