नक्सलियों के लिए मौत का दूसरा नाम बना छत्तीसगढ़ का ये बेटा, मिला ये खास सम्मान

बस्तर (Bastar) में लाल आतंक फैलाने वाले नक्सलियों (Naxalite) के लिए मौत का दूसरा नाम एक पुलिस अफसर बन चुका है.

Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: August 15, 2019, 3:21 PM IST
नक्सलियों के लिए मौत का दूसरा नाम बना छत्तीसगढ़ का ये बेटा, मिला ये खास सम्मान
छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर में लाल आतंक फैलाने वाले नक्सलियों के लिए मौत का दूसरा नाम एक पुलिस अफसर बन चुका है.
Abdul Aslam
Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: August 15, 2019, 3:21 PM IST
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) में लाल आतंक फैलाने वाले नक्सलियों (Naxalite) के लिए मौत का दूसरा नाम एक पुलिस अफसर बन चुका है. छत्तीसगढ़ के इस बेटे का नाम प्रकाश राठौर (Prakash Rathaur) है. करीब तीन दर्जन एनकाउंटर में उसने आधे दर्जन नक्सलियों को मौत के घाट उतारा है. इतना ही नहीं बल्कि कंधे में गोली लगने के बाद भी वह 18 घंटे तक मोर्चे पर डटा रहा और नक्सलियों की फायरिंग का सामना करता रहा. प्रकाश के लिए ऐसे कई किस्से हैं.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार ने सुपर कॉप प्रकाश राठौर को राष्ट्रपति वीरता पदक (Presidential gallantry medal) से सम्मानित किया है. उनके इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह उनका पूरा परिवार रहा. साथ प्रकाश के साथी अपने जांबाज दोस्त के पराक्रम से खुद पर गौरव महसूस कर रहे हैं. प्रकाश के दोस्त रितेश साहू का कहना है कि प्रकाश के देश प्रेम के जज़्बे को हम दोस्त हमेशा ही सालम करते हैं. साथ ही दूसरों को भी प्रकाश का जिक्र कर देश प्रेम के लिए प्रेरित करते हैं.

मिल चुका है आउट ऑफ टर्न प्रमोशन
बता दें कि प्रकाश राठौर कोरबा निवासी सीएसईबी के रिटायर्ड कर्मी मनहरण प्रसाद राठौर व स्वर्गीय धनबाई राठौर का पुत्र है. प्रकाश को उनके बेमिसाल कार्यों के चलते आउट ऑफ टर्म प्रमोशन दिया और वे उपनिरीक्षक से निरीक्षक बनाए गए. प्रकाश ने वर्ष 2003 में कोरबा के सरस्वती उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सीएसईबी पूर्व से 12वीं तक पढ़ाई की व 2005-06 में शासकीय पीजी कॉलेज से बी-कॉम की पढ़ाई की. इसके बाद वे आरक्षक बने और 2012 में एसआई परीक्षा देकर उपनिरीक्षक बने. 2016 में उन्हें आउट ऑफ टर्म प्रमोशन मिला. तीन भाई-बहनों में प्रकाश सबसे छोटे हैं.

पुलिस के इन अफसरों को किया गया सम्मानित.


इनको भी मिला सम्मान
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में रेल पुलिस अधीक्षक मिलना कुर्रे, सेनानी मनोज कुमार खिलारी, उप पुलिस अधीक्षक नजमुस साकिब, कंपनी कमांडर मोहन सिंह, प्लाटून कमांडर इस्तेफन कुजूर, सहायक उप निरीक्षक बलराम बघेल, सहायक प्लाटून कमांडर ओंकार दास साहू, प्रधान आरक्षक ताज खान, संजय सिंह बघेल और जुलेखा बेगम को भारतीय पुलिस पदक से अलंकृत किया. उन्होंने जेल विभाग की मुख्य प्रहरी फ्लोरा लकड़ा, प्रहरी दाऊराम कठोतरे और दुलार सिंह वर्मा को सराहनीय सुधार सेवा पदक से सम्मानित किया. कंपनी कमांडर शिव कुमार सोनी एवं प्रधान आरक्षक सत्यनारायण प्रजापति को यूनियन होम मिनिस्टर मेडल फॉर एक्सीलेंस इन पुलिस ट्रेनिंग से सम्मानित किया गया.
Loading...

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ सरकार का OBC को आरक्षण का बड़ा तोहफा, एक नए जिले का भी ऐलान 

ये भी पढ़ें: CSIF की भर्ती परीक्षा में पकड़े गए 32 मुन्नाभाई, धोखाधड़ी के लिए मांगे थे इतने रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोरबा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 15, 2019, 3:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...