तीन महिलाओं की बेरहमी से पिटाई के बाद काट दी गई चोटी !
Korba News in Hindi

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में तीन महिलाओं को बेरहमी से घसीटते हुए पिटाई कर चोटी काटने का मामला सामने आया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में तीन महिलाओं को बेरहमी से घसीटते हुए पिटाई कर उनकी चोटी काटने का मामला सामने आया है. मामला बाकीमोगरा थाना क्षेत्र के गजरा बस्ती का है.

दरअसल, बाकीमोगरा थाना क्षेत्र के गजरा बस्ती में संदिग्ध हालत में पकड़े जाने की वजह से स्थानीय महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा. भारी भीड़ के बीच इस कदर कहर बरपा कि एक महिला के कपड़े तार-तार हो गए.

क्या है पूरा मामला ?



जानकारी के मुताबिक गजरा बस्ती में एक वृद्ध महिला अकेली रहती है. उसके घर कई दिनों से संदिग्ध लोगों का आना-जाना था. इस पर मोहल्ले के लोगों को देह व्यापार कराए जाने का संदेह हुआ, जिसपर बीते मंगलवार की रात करीब 8 बजे मोहल्ले की महिलाओं ने वृद्ध महिला के घर पर धावा बोल दिया. तब महिला घर पर नहीं थी.
इस दौरान एक अन्य युवती और दो महिलाएं संदिग्ध अवस्था में मिलीं. महिलाओं ने पूछताछ करने पर गोलमोल जवाब दिया. इसकी वजह से संदेह और गहरा गया, जिस पर वहां मौजूद स्थानीय महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा.

इस बीच महिलाओं के साथ पुरुष भी वहां इकट्ठा हो गए. सबके सामने पकड़ी गई महिलाओं को पहले तो बेरहमी से पिटा गया, इसके बाद उनके बाल पकड़कर घसीटा गया. इस दौरान महिलाएं गुहार लगाती रहीं पर किसी ने उनकी एक न सुनी. इसके बाद उसी अवस्था में एक एक कर तीनों महिलाओं की चोटी काट दी गई. वहीं बाद में अंधेरे का फायदा उठाकर तीनों महिलाएं किसी तरह अपनी जान बचाकर मौके से भाग निकली.

ग्रामीण महिलाओं की मानें तो काफी समय से संदिग्ध लोगों के आने-जाने से मोहल्ले का माहौल खराब हो रहा था. कुछ लोगों ने यह भी कहा कि इसकी जानकारी पुलिस को दी गई थी. बावजूद इसके कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई. इसलिए मजबूरन उन्हें ही यह कदम उठाना पड़ा.

बहरहाल, यहां सवाल यह उठता है कि आम आदमी को कानून हाथ में लेने का अधिकार किसने दिया है ? ग्रामीण चाहते तो पकड़ी गईं संदिग्ध महिलाओं को पुलिस के हवाले भी कर सकते थे, पर ऐसा किया नहीं.

वहीं जिन महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ उनके जाने के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची. इतना ही नहीं मामले में कोई कार्रवाई किए बिना ही उल्टे पांव लौट भी गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज