अपना शहर चुनें

States

100 सालों से कोरबा के इस गांव में लोगों ने नहीं मनाई है होली, हैरान कर देगी वजह

demo pic
demo pic

कोरबा जिले में एक गांव ऐसा भी है जहां के ग्रामीण पिछले कई दशकों से होली नहीं मनाते.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के ग्राम पंचायत पुरेना का आश्रित ग्राम खरहरी के निवासी पिछले कई दशकों (सौ वर्षो से अधिक) से होली नहीं खेलते. ग्रामीणों के मुताबिक कई साल पहले जब उनके पूर्वजों द्वारा होलिका दहन गांव में किया जा रहा था. ठीक उसी समय उनके घर भी जलने लगे. ग्रामीण घरों में लगी आग को किसी दैवीय प्रकोप का नतीजा मान बैठे. यही कारण है कि तब से लेकर आज तक पूरे गांव में होली के दिन सन्नाटा पसर जाता है. वहीं कुछ ग्रामीण यह भी बताते है कि होली के दिन गांव का ही एक युवक होली खेलकर पड़ोसी गांव से अपने गांव खरहरी पहुंचा तो उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई और उसकी मृत्यु हो गई. इस घटना के बाद से ग्रामीण दहशत में आए और कभी होली न खेलने का प्रण ले लिया.

ग्राम खरहरी के ग्रामीण होली न खेलने के पीछे एक दैवीय प्रकोप को भी मानते है. ग्रामीणों के मुताबिक गांव के करीब आदिशक्ति मां मड़वारानी का मंदिर स्थित है. एक ग्रामीण के अनुसार देवी ने उसे स्वप्न दिया कि उनके गांव के लोग होली न मनाए और उसी को दैवीय भविष्यवाणी मानकर पीढ़ी दर पीढ़ी होली का पर्व न मनाने का यहां के ग्रामीणों ने फैसला कर लिया. समाज में होली पर्व पर चली आ रही परंपरा का पालन करने में बच्चे भी पिछे नहीं है. बच्चे भी अपने बुजुर्गों के बताए बातों का पालन करते है. वहीं दूसरे गांव से खरहरी गांव शादी हो कर पहुंची नई बहुएं भी गांव की परंपरा का पालन करती है.

ये भी पढ़ें:



छत्तीसगढ़: सुकमा में IED ब्लास्ट, एक ग्रामीण की मौत
रायपुर एयरपोर्ट अथॉरिटी की पहल, Women's Day पर इन्हे मिली बड़ी जिम्मेदारी

स्वाइन फ्लू-डेंगू के बाद अब भिलाई में फैला डायरिया, 64 मरीजों की हुई पुष्टि

Women's Day: स्पेशल बच्चे को लायक बनाने शांता ने कुर्बान की अपनी खुशियां, बनी मिसाल 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स    
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज