होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /Korba News: यहां है 1400 साल पुराना महावृक्ष, हर शुभ कार्य के पहले गांववाले लेते हैं आशीर्वाद

Korba News: यहां है 1400 साल पुराना महावृक्ष, हर शुभ कार्य के पहले गांववाले लेते हैं आशीर्वाद

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर छत्तीसगढ़ के कोरबा में 1400 साल पुराना एक वृक्ष है. वन विभाग भी इसकी सुरक्षा में तैनात रहता ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्टर: अनूप पासवान

कोरबा: प्रकृति की गोद में बसे छत्तीसगढ़ में भारत के सबसे पुराने जीवित वृक्षों में से एक साल का विशालकाय पेड़ मौजूद है. इस महावृक्ष को देखते ही लोगों की आंखें खुली की खुली रह जाती हैं. देवतुल्य मानकर इस महावृक्ष की पूजा करके ही स्थानीय ग्रामीण किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करते हैं. 1400 साल पुराने महावृक्ष को देखने हर साल दूर-दूर से हजारों पर्यटक यहां आते हैं. लोक आस्था और महावृक्ष के संरक्षण के लिए वन विभाग की टीम यहां हमेशा इसकी सुरक्षा में तैनात रहती है.

1400 साल पुराना साल का वृक्ष कोरबा से 45 किलोमीटर दूर ग्राम सतरेंगा में आसमान को छूते हुए खड़ा है. इस वृक्ष को गांव वाले देवतुल्य मानकर इसकी पूजा करते हैं. कोई भी शुभ कार्य करने से पहले इस पेड़ का आशीर्वाद लेते हैं. गांववालों की कई पीढ़ियों ने इस पेड़ को देखा है, इसलिए वे इस पेड़ में अपने पूर्वजों की यादों को देखते हैं. साथ ही उनका कहना है कि कई पूर्वजों की आत्मा आज भी इस पेड़ में निवास करती है.

केवल छत्तीसगढ़ तक सिमटी पहचान

भारत में सबसे पुराने वृक्षों के तौर पर बोधगया के बोधि वृक्ष सहित आंध्र प्रदेश, कोलकाता व कर्नाटक के बरगद वृक्षों को जगह मिली है. लेकिन, कोरबा के सतरेंगा में स्थित 1400 साल पुराने महावृक्ष की पहचान केवल छत्तीसगढ़ तक ही सीमित है. वन विभाग के अनुसार यह सबसे पुराने जीवित साल का वृक्ष हो सकता है.

2006 में हुई थी खोज

कोरबा के सतरेंगा गांव में साल वृक्ष प्राकृतिक खजाने की तरह हैं. यहां 2006 में इस महावृक्ष की खोज हुई थी. कोरबा वन विभाग की जानकारी पर जब इस महावृक्ष का विशेषज्ञों ने बारीकी से अध्ययन किया, तब इसकी उम्र 1400 साल पाई गई. देहरादून स्थित वानिकी प्रयोगशाला के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए परीक्षण में भी इसकी उम्र की पुष्टि की गई. महावृक्ष की ऊंचाई 28 मीटर से अधिक है और जमीनी सतह पर गोलाई 28 इंच है.

Tags: Chhattisgarh news, Korba news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें