कोरबा में जुआरियों के खिलाफ महिलाओं ने खोला मोर्चा, डंडा लेकर कर रहीं निगरानी

कोरबा में जुआरियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग.

कोरबा में जुआरियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरबा (Korba) में जुआरियों के खिलाफ महिलाओं ने मोर्चा खोल दिया है. महिला सरपंच के नेतृत्व में तमाम ग्रामीण दो दिन पहले जंगल में उतर पड़े.

  • Share this:

कोरबा. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरबा (Korba) में जुआरियों के खिलाफ महिलाओं ने मोर्चा खोल दिया है. महिला सरपंच के नेतृत्व में तमाम ग्रामीण दो दिन पहले जंगल में उतर पड़े. हाथों में डंडा लिए इन ग्रामीणों ने जुआरियों को दौड़ा लिया. इस दौरान जुए की बिसात बिछवाए सरगना और ग्रामीणों के बीच जमकर विवाद भी हुआ. अब सरपंच ने कलेक्टर को पत्र लिखा है कि कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा है. उनके गांव को जुआरियों से खाली कराएं. दरअसल, कटघोरा के तुमान और रामभाटा जंगल में पिछले कई दिनों से जुए की फड़ लग रही थी. इसकी जानकारी ग्राम पंचायत लबेद की सरपंच चैतिन बाई को लगी तो वे महिलाओं और ग्रामीणों के साथ लाठियां लेकर जंगल में पहुंच गईं.

अचानक इतने सारे लोगों को डंडे लिए आता देख जुआरियों में भगदड़ मच गई. इसके चलते जुआ खिलवा रहे व्यक्ति से विवाद भी हुआ. एक ग्रामीण ने वीडियो बनाने की कोशिश की तो उसे मना कर दिया,हंगामा बढ़ता देख फिलहाल ग्रामीण शांत होकर वहां से लौट गए. इसके बाद सरपंच चैतिन बाई ने कलेक्टर को पत्र लिखा है.

पत्र में कही ये बात

सरपंच ने पत्र में कहा गया है कि तुमान और रामभाटा के जंगलों में जुआ चल रहा है, इसके चलते एक ओर जहां कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा है. वहीं गांव के युवा भी पथभ्रष्ट हो रहे हैं. वहां बकरा भात और दारू पार्टी करने लिए 200 से 250 लोगों को एकत्र कर जुआ खिलाया जाता है. विरोध करने पर गुंडागर्दी और धमकी दी जाती है. हालांकि एएसपी कीर्तन राठौर ने शिकायतों पर संज्ञान लेने और कार्रवाई की बात कही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज