छत्तीसगढ़ के जंगल में मिला बेहद खतरनाक सांप, पल भर में शिकार का काम कर देता है तमाम

मालाबार पिट वाइपर को रॉक वाइपर के रूप में भी जाना जाता है.
मालाबार पिट वाइपर को रॉक वाइपर के रूप में भी जाना जाता है.

वन मंडल के डीएफओ गुरुनाथन एन कोरबा (DFO Gurunathan N Korba) ने बताया कि इसका पाया जाना कोरबा के जंगलों की समृद्धता को दर्शाता है. इस पर आगे शोध किया जाएगा.

  • Share this:
कोरबा. छत्तीसगढ़ के कोरबा में स्थित वन जैविविधता से समृद्ध है. यहां समय-समय पर वन्य जीवों की नई-नई प्रजातियां मिलती रहती हैं. जिले में जैविविधता पंजी का निर्माण का कार्य कर रही है. इसी कड़ी में केसला में बायोडयवर्सिटी पार्क भी विकसित किया जा रहा है. जिले में जैविविधता पर काम करने वाली संस्था छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा और रेप्टाइल केयर एंड रेस्क्यू सोसाइटी व वन विभाग के वन रक्षक दल के सयुक्त सर्वेक्षण के दौरान लेमरू वन परिक्षेत्र में मालाबार पिट वाइपर मिला है. यह पिट वाइपर पश्चिम घाट के आलावा पहली बार अन्य स्थान पर मिला है.

कोरबा वन मंडल के डीएफओ गुरुनाथन एन कोरबा ने बताया कि इसका पाया जाना कोरबा के जंगलों की समृद्धता को दर्शाता है. इसे विशिष्ट शोध के लिए उच्च संस्थानों को भेजा जाएगा व इसके संरक्षण के लिए कार्य किया जाएगा. मालाबार पिट बइपर हरे और भूरे रंग में पाए जाते हैं. यहां पर हरे मार्फ की प्रजाति मिली है, जो छोटा है. इस प्रजाति के सांपों के क्षेत्र में और पाए जाने की संभावना है. छत्तीसगढ़ विज्ञान सभा से उपाध्यक्ष दिनेश कुमार वेदव्रत, कमला नेहरू महा विद्यालय की विभागाध्यक्ष प्रो. निधि सिंह व रेप्टाइल केयर एंड रेस्कू सोसाइटी के अध्यक्ष अविनाश यादव प्रकश तेंदुलकर रिसर्च टीम में शामिल थे.

मालाबार पिट वाइपर कितना जहरीला सांप है
मालाबार पिट वाइपर को रॉक वाइपर के रूप में भी जाना जाता है. यह अपने शिकार को मारते समय अपनी सटीकता और विष में ज्यादा घातक होता है. ये निशाचर सरीसृप दक्षिण-पश्चिमी भारत में धाराओं के पास जमीनी चट्टानों और पेड़ों पर पाए जाते हैं. यह सबसे कुशल विषैला सांप होता है. इसका विष मुख्य रूप से शिकार के रक्त और मांसपेशियों पर कार्य करता है. कहा जाता है कि वाइपर के दो मुख्य समूह हैं. पिट वाइपर में अन्य वाइपर के विपरीत चेहरे पर बड़े हीट-सेंसिंग गड्ढे होते हैं, जो इस क्षमता के बिना होते हैं. ये बड़े हीट सेंसिंग पिट्स इसके सिर के प्रत्येक तरफ, नासिका और आंख के बीच में स्थित होते हैं. कभी-कभी गर्मी के गड्ढे नथुने से बड़े होते हैं. यह गर्म खून वाले शिकार द्वारा दी गई गर्मी का पता लगा सकता है. इसके सिर को साइड से मोड़कर, एक पिट वाइपर अपने शिकार की दिशा का पता लगा सकता है.
धीमी गति से चलने वाला सांप और निशाचर है


पिट वाइपर एक धीमी गति से चलने वाला सांप और निशाचर है. अपने आप को बचाने के लिए धीमी गति चलता है. साथ ही परेशान होने पर तेज हमले और काटने में सक्षम है. इस सांप के भोजन में कृंतक, छिपकली, पक्षी और मेंढक जैसे छोटे स्तनधारी शामिल हैं. मादा ४ या ५ जीवित युवा को जन्म देती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज