भगवान गणेश की पूजा के लिए घर से भागे मुस्लिम बच्चे, फूटपाथ पर गुजारी रात, चंदा मांगे और..

Abdul Aslam | News18 Chhattisgarh
Updated: September 5, 2019, 11:12 AM IST
भगवान गणेश की पूजा के लिए घर से भागे मुस्लिम बच्चे, फूटपाथ पर गुजारी रात, चंदा मांगे और..
कोरबा के दो मुस्लिम बच्चों ने भी गणेश प्रतिमा स्थापित कर कौमी एकता की मिसाल पेश की है.

यह कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि कोरबा (Korba) के मानिकपुर चौकी क्षेत्र के कुआंभट निवासी दो दोस्त रमजान और मुबारक की सच्चाई है.

  • Share this:
कोरबा: कहते हैं बचपन का जुनून न ही धार्मिक मान्यताओं को समझता है और न ही मजहबी मजबूरियों को मानता है. वह अपने हर खेल में बस बचपने को ही जिंदा रखता है. जात-पात और धर्म (Religion) से परे हटकर छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कोरबा (Korba) के दो मुस्लिम (Muslim) बच्चों ने भी गणेश (Lord Ganesha) प्रतिमा स्थापित कर कौमी एकता की मिसाल पेश की है. हालांकि परिजनों के ऐतराज के कारण उन्हें घर से भागकर यह कदम उठाना पड़ा. इसकी जानकारी होने पर पुलिस व चाइल्ड लाइन की टीम ने दोनों बच्चों को ढूंढ निकाला और उन्हें परिजनों के सुपुर्द कर दिया.

यह कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि कोरबा (Korba) के मानिकपुर चौकी क्षेत्र के कुआंभट निवासी दो दोस्त रमजान और मुबारक की सच्चाई है. दोनों बच्चे गणेश चतुर्थी (Ganesha Chaturthi) के दिन घर से भाग गए थे. घर से भागने के बाद उन्होंने शारदा विहार रेलवे फाटक से थोड़ी दूर पर बने फुटपाथ (foot path) पर एक झोपड़ीनुमा पंडाल बनाया और उसमें भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित की. इसके लिए उन्होंने शारदा विहार के आसपास क्षेत्र में चंदा भी लिया. खास बात यह रही कि शारदा विहार इलाके के लोग दोनों बच्चों को नहीं पहचानते है. इसके बाद भी उनके द्वारा विराजित गणेश की प्रतिमा का वे पूजन-अर्चन करने पंडाल पहुंचते हैं.

Muslim children fleeing home, Lord Ganesha, anesha chaturthi, korba in chhattisgarh, कोरबा, छत्तीसगढ़, मुस्लिम बच्चों ने की भगवान गणेश की पूजा, सपने में दिखते हैं गणेश, गणेशोत्सव
भगवान गणेश की पूजा करते रमजान और मुबारक.


बस्ती वालों ने खिलाया खाना

बस्ती के लोग ही दोनों बच्चों को दो वक्त का खाना भी मुहैया कराते थे. पंडाल में ही सोकर वे मूर्ति की देखरेख करते हैं. इस बीच दोनों बच्चों के अचानक घर से गायब होने से परिजन चिंतित थे. उन्होंने उनकी खोजबीन शुरू की. रमजान के पिता ने उसे गायब होने से एक दिन पहले फटकार भी लगाई थी, जिसके कारण उन्हें रमजान की सलामती का डर सता रहा था. खोजबीन के दौरान पता चला कि उसका साथी मुबारक भी घर पर नहीं है. इसकी जानकारी किसी ने पुलिस व चाइल्ड लाइन टीम को दे दी. टीम ने मौके पर पहुंचकर रमजान और मुबारक को परिजनों के हवाले कर दिया है. अब गणेश पंडाल की देखरेख शारदा विहार फाटक के पास के लोग कर रहे हैं.

सपने नजर आते हैं गणेश
रमजान ने बताया कि उसे सपने में भगवान गणेश नजर आते थे. तभी से उसने गणेश बिठाने की ठान ली थी. हालांकि उसके परिजन इसके लिए तैयार नहीं थे, लेकिन रमजान के सिर पर मानो गणेश प्रतिमा स्थापना का भूत सवार था. वह जानता था कि घर या फिर घर के आसपास गणेश स्थापना कर पाना मुश्किल होगा. लिहाजा उसने अपने दोस्त मुबारक को साथ में लिया और गणपति स्थापना के लिए शारदा विहार क्षेत्र को चुना.
Loading...

ये भी पढ़ें:- अमित जोगी की जमानत याचिका खारिज, भेजे गए जेल

अमित जोगी की गिरफ्तारी का विरोध, जनता कांग्रेस कार्यकर्ताओं का रायपुर में प्रदर्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोरबा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 11:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...