Home /News /chhattisgarh /

Chhattisgarh: दुर्लभ बीमारी से जूझ रही मासूम सृष्टि को मिली मदद, लगेगा 16 करोड़ का इंजेक्शन

Chhattisgarh: दुर्लभ बीमारी से जूझ रही मासूम सृष्टि को मिली मदद, लगेगा 16 करोड़ का इंजेक्शन

Srishti rani rare genetic disease 16 crore injection: छत्तीसगढ़ की मासूम सृष्टि को लगेगा 16 करोड़ का इंजेक्शन.

Srishti rani rare genetic disease 16 crore injection: छत्तीसगढ़ की मासूम सृष्टि को लगेगा 16 करोड़ का इंजेक्शन.

Korba News:  स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (Rare Disease spinal muscular atrophy) टाईप-1 नामक गंभीर बीमारी से जूझ रही छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh News) की मासूम सृष्टि रानी को अब 16 करोड़ का इंजेक्शन लगेगा. एसईसीएल (SECL) ने अपने कर्मचारी की बेटी को बचाने पूरा खर्च उठाने का फैसला किया है.

अधिक पढ़ें ...

कोरबा. दुर्लभ बीमारी से जूझ रही छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में मासूम सृष्टि को जल्द नया जीवन मिलेगा. कोरबा (Korba News) में न्यूज 18 की खबर का बड़ा असर हुआ है. बच्ची की जान बचाने के लिए उसे 16 करोड़ का एंजेक्शन लगेगा. कोल इंडिया के चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल ने राशि की स्वीकृति देने के साथ शुक्रवार को एसईसीएल दीपका प्रबंधन ने सृष्टि रानी के पिता को 16 करोड़ रुपए का डायरेक्टर एम्स नई दिल्ली के नाम का चेक दिया है. एकल रूप में देश की सबसे बड़ी कोयला कंपनी और कोल इण्डिया की सब्सिडीएरी एसईसीएल ने नेक पहल करते हुए अपने एक कोयला कर्मी की दो साल की  मासूम बच्ची के इलाज के लिए 16 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत दी है. एसईसीएल के दीपका कोयला क्षेत्र में कार्यरत ओवरमैन  सतीश कुमार रवि की बेटी सृष्टि रानी ‘स्पाइनल मस्क्यूलर एट्रॉफी’ (एसएमए) नामक एक बेहद ही दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त है.

अमूमन छोटे बच्चों में होने वाली इस बीमारी में स्पाइनल कॉर्ड और ब्रेन स्टेम में नर्व सेल की कमी से मांसपेशियां सही तरीके से काम नहीं कर पाती और धीरे-धीरे यह बीमारी प्राणघातक होती चली जाती है. इसका इलाज बेहद ही महंगा है और इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन ‘जोलजेंस्मा’ की कीमत 16 करोड़ रुपए है. अब कोल इंडिया ने बेटी के इलाज के लिए 16 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की है.

एसईसीएल ने कहा- परिवार को दिया गया 16 करोड़ का चेक

एसईसीएल के जनसंपर्क अधिकारी सनीश कुमार ने बताया कि कर्मी को अपनी बच्ची के इलाज के लिए इतनी ऊंची कीमत पर इंजेक्शन खरीद पाना संभव नहीं था. कंपनी ने न सिर्फ अपने परिवार की बेटी की जान बचाने के लिए यह बड़ी पहल की है. एसईसीएल दीपका के माइनिंग जीएम शशांक कुमार देवांगन ने सृष्टि के पिता को 16 करोड़ का चेक सौंपा है. 16 करोड़ रुपए का इंजेक्शन सात संमदर पार से आना है, लेकिन परिवार के सामने इतनी बड़ी रकम जमा कर पाना एक बड़ी चुनौती थी. ऐसे में परिवार और मासूम सृष्टि की थमती सांसों को लोगों की मदद की आस थी. सतीश कुमार रवि के छोटे से परिवार में सब कुछ सही चल रहा था. 22 नवंबर 2019 को सतीश के घर मासूम सृष्टि के जन्म के साथ नई खुशियां आई. लेकिन कुछ महीने बाद ही मानो इस परिवार की खुशियों पर ग्रहण लग गया.

ये भी पढ़ें: Rajasthan Politics: हड़ौती में वसुंधरा गुट के तीखे तेवर, नेताओं को साधने होगी अरुण सिंह की एंट्री

मासूम सृष्टि 5 महीने की होने के बाद भी स्वस्थ नहीं थी. परिवार के लोगों ने मासूम सृष्टि को बेहतर इलाज के लिए बाहर ले जाते, उससे पहले ही मार्च महीने में कोरोना महामारी के कारण देशभर में लॉकडाउन लग गया. लिहाजा स्थानीय स्तर पर मासूम सृष्टि का इलाज किया जाता रहा, लेकिन सृष्टि को हुए गंभीर बीमारी का पता नहीं चल सका. 14 दिसंबर को सतीश अपनी मासूम बेटी को इलाज के लिए सीएमसी वैलूर लेकर गए, जहां डाक्टरो ने मासूम सृष्टि के कई टेस्ट किए और उन्हीं टेस्ट के एक रिपोर्ट में मासूम सृष्टि को स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी टाईप-1 नामक गंभीर बीमारी के होने का पता चला, जिसका इलाज डॉक्टरों की टीम ने सात समंदर पार होने की जानकारी परिवार के लोगों को दी.

Tags: Chhattisgarh news, Genetic diseases, Korba news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर