15 अप्रैल से डेढ़ माह को तीन ट्रेन रद्द, ढाई हजार यात्री रोजाना हो रहे परेशान

कोरबा रेलखंड में यात्रियों की सुविधा के लिए रोजाना पांच पैसेंजर ट्रेन दौड़ती हैं. इन ट्रेनों में रोजाना पांच हजार यात्री सफर करते हैं. 15 अप्रैल से 30 मई तक तीन जोड़ी पैसेंजर ट्रेनों को फिर से रद्द कर रोजाना सफर करने वाले ढाई हजार यात्रियों की परेशानी बढ़ा दी है.

News18 Chhattisgarh
Updated: April 17, 2018, 9:54 PM IST
15 अप्रैल से डेढ़ माह को तीन ट्रेन रद्द, ढाई हजार यात्री रोजाना हो रहे परेशान
कोरबा रेलवे स्टेशन
News18 Chhattisgarh
Updated: April 17, 2018, 9:54 PM IST
कोरबा रेलखंड में यात्रियों की सुविधा के लिए रोजाना पांच पैसेंजर ट्रेन दौड़ती हैं. वहीं तीन नियमित तो एक साप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन है. इन ट्रेनों में रोजाना पांच हजार यात्री सफर करते हैं. इसमें से अधिकांश पैसेंजर ट्रेनों के यात्री होते हैं. 15 अप्रैल से 30 मई तक तीन जोड़ी पैसेंजर ट्रेनों को फिर से रद्द कर रोजाना सफर करने वाले ढाई हजार यात्रियों की परेशानी बढ़ा दी है. इन यात्रियों को इन 46 दिनों के लिए यात्रा के विकल्प ढूंढ़ने होंगे. रेलवे के मुताबिक चांपा-बिलासपुर रेल खंड के पुल के मरम्मत के लिए ट्रेनों को रद्द किया गया है.

18 अप्रैल से वैवाहिक सीजन शुरू होने से छोटे-बड़े स्टेशनों तक सफर करने वाले दोनों दिशाओं के यात्रियों की परेशानी और बढ़ जाएगी. इन यात्रियों की चिंता रेल प्रशासन को नहीं है. जिले से रेलवे का नाता 65 साल पुराना है. इतने वर्षों में पहली बार है कि जब ट्रेनों को इतनी लंबी अवधि तक नहीं चलाया जा रहा है. रेल मंडल बिलासपुर के अफसरों ने जो तर्क दिया है, सुरक्षा की दृष्टि से उसे नकारा भी नहीं जा सकता है.

रद्द दिनों में यहां के लोगों को सफर करने के लिए सुबह 8 बजे के स्थान पर 6 बजे वाली ट्रेन पकड़नी होगी. इतना ही नहीं दोपहर 1.30 बजे की ट्रेन पकड़ने वालों को भी सुबह 6 बजे वाली पैसेंजर या फिर 11.25 बजे की पैसेंजर विकल्प रहेगी. ऐसी स्थिति में यहां जाने वाली हर पैसेंजर ट्रेन में दो ट्रेनों के यात्री सफर करेंगे. आधे से अधिक लोगों को खड़े होकर यात्रा करनी पड़ेगी, या फिर लिंक और शिवनाथ एक्सप्रेस में अधिक किराया देकर जाना होगा.







Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->