लाइव टीवी

यहां 10 सालों में 349 लोगों में मिले एचआईवी वायरस
Korea News in Hindi

Ramacharit Dwivedi | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: December 10, 2017, 4:38 PM IST
यहां 10 सालों में 349 लोगों में मिले एचआईवी वायरस
जिला अस्पताल बैकुंठपुर के नोडल अधिकारी डॉ. जी. डी. बघेल

छत्तीसगढ़ में कोरिया जिले के शहरी इलाकों में जिस प्रकार से एड्स के मामले सामने आ रहे हैं वो काफी चौंकाने वाले हैं. जिले के 5 विकासखंडों में इस मामले में चिरमिरी सबसे आगे है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में कोरिया जिले के शहरी इलाकों में जिस प्रकार से एड्स के मामले सामने आ रहे हैं वो काफी चौंकाने वाले हैं. जिले के 5 विकासखंडों में इस मामले में चिरमिरी सबसे आगे है.

लिहाजा, बीते 10 वर्षों के आंकड़ों की अगर बात करें तो अब तक 349 लोगों में एचआईवी पॉजिटिव मिला है. वहीं इसमें कुल 31 गर्भवती महिलाओं में एचआईवी के वायरस पाए गए हैं.

कोरिया जिले के 5 विकासखंडों में वर्ष 2006 से अब तक जितने भी लोगों ने अपने रक्त की जांच करवाई है, उनमें 349 लोगों में एचआईवी के वायरस मिले हैं. इससे जाहिर है कि कोरिया जिला इन दिनों ऐसी लाइलाज बीमारी की चपेट में है जिस पर अगर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया, तो आने वाले समय में हालात और भी भयावह हो सकते हैं.

वहीं जब इसमें गर्भवती महिलाओं के आंकड़ों की पड़ताल की गई, तो वे भी काफी चौंका देने वाले थे. यहां जितनी भी महिलाओं ने गर्भावस्था में अपने रक्त की जांच करवाई थी, उन सबमें इन 10 वर्षों में 31 महिलाओं में एचआईवी वायरस पाए गए.



इसमें सबसे चौंकाने वाली बात तो यह है कि बीते 6 महीनों में 24 लोगों में एड्स के मामले सामने आए हैं. इस बारे में जब जिला अस्पताल बैकुंठपुर के नोडल अधिकारी डॉ. जी. डी. बघेल से चर्चा की गई, जिसपर उनका कहना था कि फीमेल सेक्स वर्कर के साथ साथ असुरक्षित यौन संबंध इस बीमारी की बड़ी वजह है.

उन्होंने बताया कि यहां जो लोग बाहर काम करने के लिए राजधानी रायपुर की ओर जाते हैं, वहां से कई लोग इस बीमारी के संवाहक बन जाते हैं. डॉक्टर बघेल ने बताया कि गर्भावस्था में इस बीमारी का पता चलने पर हम यह प्रयास करते हैं कि बच्चों को उसके संक्रमण से बचाया जा सके. लेकिन बड़ा सवाल यह है कि कोरिया जैसे छोटे से जिले में अगर एड्स जैसी भयानक बीमारी तेजी से बढ़ रही है, तो कहीं न कहीं इस बारे में आम लोगों को जागरूक होने की जरूरत है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कोरिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2017, 4:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर