शिविर में एक भी व्‍यक्ति नहीं पहुंचा रक्‍त दान करने!

Ramacharit Dwivedi | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 12, 2017, 7:21 PM IST
शिविर में एक भी व्‍यक्ति नहीं पहुंचा रक्‍त दान करने!
सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र, मनेंद्रगढ़.
Ramacharit Dwivedi | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: August 12, 2017, 7:21 PM IST
छत्‍तीसगढ़ के कोरिया जिले में रक्तदान को लेकर लोगों में कितनी भ्रांतियां हैं, इसका नजारा तब देखने को मिला, जब जिले के मनेंद्रगढ़ में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रक्तदान शिविर के मौके पर कोई भी व्यक्ति रक्तदान करने नहीं पहुंचा.

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जरूरत पड़ने पर खून के लिए भटकने वाले लोग भी अपना काम निकल जाने के बाद फिर रक्तदान को बेकार की चीज समझने लगते हैं.

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेन्द्रगढ़ में शनिवार को रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया. इस शिविर के माध्यम से इकट्ठा किए गए रक्त को जिला अस्पताल बैकुंठपुर के रक्त विभाग में भेजकर उसकी जांच करा कर फिर उसे वापस मंगाया जाता, लेकिन जब कोई रक्तदान करने ही नहीं पहुंचा तब आखिर संग्रहण किसका किया जाता. ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि सभी रक्तदान की जरूरत से भलीभांति अवगत हैं, लेकिन इसके बावजूद अगर कोई रक्तदान के लिए आगे नहीं आएगा, तो जरूरत पड़ने पर जरूरतमंद मरीज को रक्त कहां से मुहैया कराया जाएगा.

इस बारे में जब सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेन्द्रगढ़ के विकासखंड चिकित्साधिकारी डॉक्टर सुरेश तिवारी से चर्चा की गई तो उनका कहना था कि एक स्वस्थ मनुष्य माह में दो बार रक्तदान कर सकता है. रक्तदान करने से मनुष्य के स्‍वास्‍थ्‍य को कोई नुकसान नहीं होता, बल्कि वह स्वस्थ रहता है.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर