महासमुंद : कांग्रेस के साहू निर्विरोध जनपद पंचायत अध्यक्ष, कोरोना के बावजूद जुटी भीड़

कांग्रेस ने जनपद पंचायत अध्यक्ष चुनाव जीता.

कांग्रेस ने जनपद पंचायत अध्यक्ष चुनाव जीता.

छत्तीसगढ़ में एक तरफ कोरोना (Corona Virus) का कहर जारी है तो दूसरी जनपद पंचायत चुनाव (Janpad Panchayat Elections) होने से आरोप प्रत्यारोप का दौर भी दिखा. BJP ने साफ तौर पर कहा कि महामारी के समय में चुनाव करवाया ही नहीं जाना चाहिए.

  • Share this:
महासमुंद. जनपद पंचायत के अध्यक्ष की खाली कुर्सी के लिए निर्वाचन की प्रक्रिया पूरी कराई गई, जिसके बाद कांग्रेस यतेंद्र साहू को महासमुंद जनपद पंचायत का अध्यक्ष घोषित कर दिया गया. साहू निर्विरोध इस पद के लिए चुने गए. भाजपा ने इस चुनाव के लिए नामांकन ही दाखिल नहीं किया था. किसी जोड़ तोड़ या समर्थन के कारण नहीं, बल्कि भाजपा ने इस चुनाव का बहिष्कार करने के अपने स्टैंड के चलते इस चुनाव में भाग नहीं लिया.

पीठासीन अधिकारी के रूप में अपर कलेक्टर जोगेंद्र कुमार नायक और जनपद सीईओ ने चुनाव की कार्रवाई संपन्न करवाई. चुनाव के नतीजे के साथ ही बताया गया कि भाजपा समर्थित जनपद सदस्यों ने इस चुनाव से दूरी बनाई हुई थी. अध्यक्ष के चुनाव का भाजपा ने बहिष्कार किया.

ये भी पढ़ें : नक्सल प्रभावित कैंप में विस्फोटक मिलने से सनसनी, जवानों ने नाकाम की साज़िश

इस तरह के हैं समीकरण
आपको बता दें कि महासमुंद जनपद के 25 सदस्यीय जनपद सदस्यों में शामिल पूर्व अध्यक्ष भागीरथी चन्द्राकर के निधन के बाद यह सीट खाली हो गई थी. जनपद पंचायत में 15 सदस्य कांग्रेस के और 9 सदस्य भाजपा के हैं.

chhattisgarh news, chhattisgarh local election, congress vs bjp, election results, छत्तीसगढ़ न्यूज़, छत्तीसगढ़ स्थानीय चुनाव, कांग्रेस बनाम भाजपा, चुनाव नतीजे
कांग्रेस के समर्थक जनपद पंचायत में जुटे.


जनपद में जश्न और टूटे नियम



निर्वाचन के समय जनपद पंचायत परिसर में कोरोना के नियमों को दरकिनार करते लोग नज़र आए. धारा 144 के बावजूद जनपद में लोगों की भारी भीड़ एकत्र हो गई. निर्विरोध निर्वाचन के बाद जनपद में आतिशबाजी कर जश्न भी मनाया गया. सत्ता पक्ष के दबाव के चलते प्रशासन और पुलिस की मौजूदगी के बाद भी जनपद में लोगों की भारी भीड़ रोकने के कदम नहीं उठाए गए.

ये भी पढ़ें : दमोह उपचुनाव: दो सभाओं में पहुंचे सीएम शिवराज, कांग्रेस का मज़ाक उड़ाकर मांगे वोट

महासमुंद में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच यह चुनाव, ऊपर से लापरवाही बरतती हुई इस भीड़ को लेकर चर्चा है कि इसका कोई विपरीत असर न हो. यही नहीं, चर्चा में तो यह भी रहा कि तीन जनपद सदस्य पहले ही कोरोना पॉज़िटिव हैं. साथ ही पीठासीन अधिकारी सुनील कुमार चंद्रवंशी भी एक दिन पहले ही संक्रमित हुए, जिसके बाद अपर कलेक्टर जोगेंद्र कुमार नायक को पीठासीन अधिकारी बनाया गया.

कांग्रेस पर मनमानी के आरोप

बीजेपी की जिलाध्यक्ष रूपकुमारी चौधरी ने कांग्रेस पर लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाते हुए कहा कि जब अधिकारी व सदस्य कोरोना संक्रमित थे तो चुनाव संभव ही नहीं थे. ऐसे में चुनाव का मतलब ही सदस्यों को मताधिकार से वंचित करना रहा. उन्होंने यह भी कहा कि रविवार को नागरिक बैंक का चुनाव था, लेकिन कोरोना के कारण स्थगित हुआ. जनपद के चुनाव को कैंसिल न करना सत्तारूढ़ कांगेस की कांग्रेस मनमानी ही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज