लोकसभा चुनाव 2019: महासमुंद में दो बार से है बीजेपी का कब्जा, वापसी की तलाश में कांग्रेस

महासमुंद सीट पर दूसरे चरण में 18 अप्रैल को वोटिंग हो रही है. महासमुंद संसदीय क्षेत्र में 16 लाख 32 हजार 962 कुल मतदाता हैं. इनमें से 8 लाख 10 हजार 783 पुरुष, 8 लाख 22 हजार 158 महिला और 21 अन्य वर्ग के मतदाता हैं.

News18 Chhattisgarh
Updated: April 18, 2019, 7:22 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019: महासमुंद में दो बार से है बीजेपी का कब्जा, वापसी की तलाश में कांग्रेस
demo pic
News18 Chhattisgarh
Updated: April 18, 2019, 7:22 AM IST
छत्तीसगढ़ में राजनीति के लिहाज से महासमुंद शुरू से चर्चाओं में रहा है. पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी चंदू लाल साहू ने कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को हराया था. इस चुनाव में चंदू लाल साहू नाम के 11 प्रत्याशियों के चुनाव लड़ने की वजह से ये सीट देशभर में चर्चा का विषय रही. महासमुंद सीट पर दूसरे चरण में 18 अप्रैल को वोटिंग होगी. महासमुंद संसदीय क्षेत्र में 16 लाख 32 हजार 962 कुल मतदाता हैं. इनमें से 8 लाख 10 हजार 783 पुरुष, 8 लाख 22 हजार 158 महिला और 21 अन्य वर्ग के मतदाता हैं.

महासमुंद की पहचान उस निर्वाचन क्षेत्र के तौर पर की जाती है, जहां से दिग्गज कांग्रेसी नेता विद्या चरण शुक्ला ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी. बतौर सांसद अपने 9 कार्यकाल में से में विद्या चरण शुक्ला ने अपने पहले चुनाव समेत छह चुनाव महासमुंद से ही जीते. साल 2004 में जब उन्होंने एनसीपी में शामिल होने के लिए कांग्रेस छोड़ दी, तो वे इसी निर्वाचन क्षेत्र में लौटकर आए, लेकिन कांग्रेस के अजीत जोगी से हार गए. 2019 के लोकसभा चुनाव में महसमुंद संसदीय क्षेत्र से 13 प्रत्याशी मैदान में हैं, लेकिन सीधा मुकाबला बीजेपी के चुन्नीलाल साहू और कांग्रेस के प्रत्याशी धनेन्द्र साहू के बीच है. इस सीट पर जातिगत स​मीकरण मुद्दों से ज्यादा हावि है.



छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों में से एक महासमुंद सीट सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित है. आजादी के बाद साल 1952 से अब तक यहां कुल 16 चुनाव संपन्न हुए. साल 1999 तक यह लोकसभा सीट मध्य प्रदेश के अंतर्गत आती थी. साल 2000 में मध्य प्रदेश के विभाजन के बाद बने छत्तीसगढ़ के अंतर्गत आने के बाद यहां से तीन लोकसभा चुनाव हो चुके हैं. केवल 2009 और 2014 के चुनावों की बात छोड़ दें तो इससे पहले कभी किसी पार्टी को लगातार दो बार जीत नहीं मिली है. बीजेपी के चंदूलाल ने 2009 और 2014 में लगातार जीत हासिल कर इस मिथक को तोड़ दिया.

महासमुंद जिला अपने सांस्कृतिक इतिहास के लिए मशहूर है. यह क्षेत्र कभी सोमवंशी सम्राटों द्वारा शासित दक्षिण कौशल की राजधानी था. यहां बड़ी संख्या में मंदिर अपनी प्राकृतिक और सुंदरता के साथ हमेशा आगंतुकों को आकर्षित करते रहे हैं. मंदिर, मेले और त्यौहार लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन गए हैं. साल 2014 में महासमुंद से दोबारा चुनाव जीतने वाले बीजेपी के चंदू लाल साहू ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजीत जोगी को महज 1217 वोटों के बेहद कम अंतर से हराया. 2014 के चुनाव काफी रोचक थे. चंदू लाल साहू नाम के 11 निर्दलीय उम्मीदवार थे, जिन्होंने यहां से चुनाव लड़ने के लिए नामांकन दाखिल किया.

इस लोकसभा सीट पर 2014 में पुरुष मतदाताओं की संख्या 757,276 और महिला वोटर्स की संख्या 758,471 थी.  कुल 1,515,747 मतदाताओं में से कुल 1,131,209 ने चुनाव में हिस्सा लिया. 2019 के सत्रहवें लोकसभा चुनाव में 16 लाख 32 हजार 962 कुल मतदाता अपने क्षेत्र के सांसद का चुनाव करेंगे. रायपुर लोकसभा के अंतर्गत विधानसभा की आठ सीटें आती हैं. इनमें से एक अनूसूचित जाति, एक अनूसूचित जनजाति और छह सामान्य के लिए आरक्षित हैं. जिनमें सरायपल्ली(एससी), महासमुंद, कुरुद, बसना, राजिम, धममरी, खल्लारी और बिंद्रा नवागढ़ (एसटी) शामिल है.
ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में साहू समाज को साधने पीएम नरेन्द्र मोदी ने खेला ये 'मास्टर स्ट्रोक' 
Loading...

ये भी पढ़ें: विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद लोकसभा चुनाव में क्या कर रहे हैं डॉ. रमन सिंह? 
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: छत्तीसगढ़ में प्रचार के रण से क्यों गायब हैं राहुल-प्रियंका गांधी? 
यह भी पढ़ें: दुल्हन ने 100% वोटिंग के लिए हाथों में लगाई मेंहदी, आठवें फेरे में लिया मतदान का वचन 
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स  
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार