होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /Mahasamund News: यहां कच्चे रास्तों का ही सहारा, चयन के बावजूद इन गांवों में नहीं बनी सड़क

Mahasamund News: यहां कच्चे रास्तों का ही सहारा, चयन के बावजूद इन गांवों में नहीं बनी सड़क

छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में आज भी ऐसे कई गांव हैं, जहां पक्की सड़क नहीं है. यहां के ग्रामीण कच्चे रास्तों पर ही चलते ह ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: रामकुमार नायक

महासमुंद: छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में आज भी कई गांव ऐसे हैं, जो बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं. सरकारी योजना में चयन होने के बाद भी इन गांवों में आज तक पक्की सड़क नहीं बनी. केंद्र सरकार ने 2017 में महासमुंद के बसना ब्लॉक की 14 ग्राम पंचायतों का चयन राष्ट्रीय रुर्बन मिशन योजना के तहत किया था. इसके अंतर्गत आने वाले 33 गांवों को शहरों की तर्ज पर विकसित करना था, लेकिन योजना के जिम्मेदारों की उदासीनता के कारण कई चयनित गावों में पक्की सड़क तक नहीं बनी.

महासमुंद के बसना जनपद का लोहड़ीपुर गांव भी रुर्बन क्लस्टर में शामिल था, लेकिन यहां भी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है. इस गांव में सड़क, बिजली, पेयजल जैसे बुनियादी सुविधाएं विकसित नहीं हुई हैं. लोहड़ीपुर के सरपंच प्रतिनिधि देवकुमार सिदार ने बताया कि रुर्बन योजना के तहत केवल एक दो ही काम हुए हैं. पक्की सड़क आज भी यहां नहीं है. प्रधानमंत्री सड़क योजना और मुख्यमंत्री सड़क योजना की मांग की गई है, लेकिन शासन-प्रशासन से कोई संतुष्ट जवाब नहीं मिला.

दूसरी योजनाओं से हो रहा विकास

महासमुंद जिला पंचायत सीईओ एस. आलोक का कहना है कि रुर्बन मिशन योजना अब समाप्ति की ओर है, जितना विकास कार्य होना था हो गया. अब संभव नहीं है. रही बात सड़क की और बुनियादी सुविधाओं की तो उसके लिए अन्य शासकीय योजनाओं से विकास कार्य किए जा रहे हैं.

मिशन के तहत ये होने थे काम

रुर्बन मिशन के तहत प्रत्येक क्लस्टर में कौशल विकास प्रशिक्षण, कृषि प्रसंस्करण, कृषि सेवा, भंडारण और वेयरहाउसिंग, साजो सामान से पूरी तरह लैस मोबाइल हेल्थ यूनिट, विद्यालय और उच्च स्तर शिक्षा सुविधाओं को प्रदान कराना था. इसके अलावा स्वच्छता, पाइप के जरिए जलापूर्ति का प्रावधान, ठोस और तरल अपशिष्ट, प्रबंधन ग्रामीण गलियां, नालियां, स्ट्रीट लाइट, गांवों के बीच सड़क संपर्क, सार्वजनिक परिवहन, एलपीजी गैस कनेक्शन, डिजिटल साक्षरता, इलेक्ट्रॉनिक तरीके से नागरिक केंद्रित सेवाएं उपलब्ध कराने, ई-ग्राम कनेक्टिविटी के लिए सिटिजन सर्विस सेंटर जैसे सुविधाएं मुहैया करानी थी.

Tags: Chhattisgarh news, Mahasamund News

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें