लाइव टीवी

जिले की 29 हड़ताली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका किया गया बर्खास्त

Manohar Singh Rajput | News18 Chhattisgarh
Updated: March 24, 2018, 2:44 PM IST
जिले की 29 हड़ताली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका किया गया बर्खास्त
जिले की 29 हड़ताली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका किया गया बर्खास्त

महासमुंद जिले में हड़ताल कर रहे आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं पर प्रशासन ने सख्त रुख अख्तियार किया है. विभाग ने हड़ताल पर गए करीब 29 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं पर बर्खास्त करने की कार्रवाई की है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में हड़ताल कर रहे आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं पर प्रशासन ने सख्त रुख अख्तियार किया है. विभाग ने हड़ताल पर गए करीब 29 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं पर बर्खास्त करने की कार्रवाई की है. बर्खास्तगी में 27 कार्यकर्ता और 2 सहायिकाएं शामिल हैं, जिसमें आंगनबाड़ी संघ की प्रदेश उपाध्यक्ष सुधा रात्रे भी शामिल हैं.

आपको बता दें कि जिले के कुल 1730 कार्यकर्ताओं में 1389 और 1597 सहायिकाओं में 1336 सहायिकाएं बीते 5 मार्च से अपनी 6 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं.

महिला एवं बाल विकास विभाग के डीपीओ एम. डी. नायक ने बताया कि महासमुंद जिले में 1795 आगंनबाड़ी केंद्र संचालित हैं. करीब 84 हजार बच्चें आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से शासकीय योजनाओं का लाभ लेते हैं, लेकिन इनके हड़ताल पर चले जाने से शासन की तमाम योजनाएं प्रभावित हो गईं हैं.

उन्होंने कहा कि जिले के अधिकांश केंद्रों में ताला लटका हुआ है, जिसे देखते हुए विभाग ने हड़ताली कार्यकर्ताओं को काम पर वापस आने के लिए नोटिस जारी किया था. इस बीच उनके काम पर न लौटने की वजह से विभाग अब कार्रवाई के मूड में आ गया है.

मामले में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ की प्रांत उपाध्यक्ष सुधा रात्रे ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष पद्मावती साहू को बर्खास्तगी का नोटिस भेजा गया है. इसके बाद से सारे जिलों की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को बर्खास्तगी का नोटिस भेजा जा रहा है. बावजूद इसके बड़ी संख्या में अपनी मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हड़ताल पर डटे हुए हैं. उनका कहना है कि कार्यकर्ता शासन के रवैये से इस कदर त्रस्त हो चुके हैं कि अब उन्हें सरकार के किसी भी हथकंडे से फर्क नहीं पड़ रहा है.

लिहाजा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने भी अपनी लड़ाई अंतिम चरण तक लड़ने और शासन द्वारा उनकी मांगें पूरी न करने तक हड़ताल पर डटे रहने की बात कही है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महासमुंद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2018, 2:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर