लाइव टीवी

दो फर्जी शिक्षाकर्मी भाई-बहन गिरफ्तार, ऐसे झांसा देकर सालों से कर रहे थे नौकरी

Manohar Singh Rajput | News18 Chhattisgarh
Updated: January 14, 2020, 6:10 PM IST
दो फर्जी शिक्षाकर्मी भाई-बहन गिरफ्तार, ऐसे झांसा देकर सालों से कर रहे थे नौकरी
फिलहाल पुलिस दोनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

बताया जा रहा है कि दोनों ने फर्जी तरीके से मेडिकल बोर्ड (Fake Medical Letter) का प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी कर रहे थे. फिलहाल पुलिस (Police) आरोपियों से पूछताछ कर रही है.

  • Share this:
महासमुंद. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के महासमुंद (Mahasamund) जिले में पुलिस ने दो फर्जी शिक्षाकर्मियों (Shikshakarmi) को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया है. दो शिक्षाकर्मी भाई-बहन हैं और सालों से गलत दस्तावेजों के सहारे नौकरी कर रहे हैं. इन दोनों के खिलाफ अर्जुनी इलाके के रहने वाले एक शख्स ने पुलिस (Police) से शिकायत की थी. शिकायत के बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने दोनों को हिरासत में ले लिया है. बताया जा रहा है कि दोनों ने फर्जी तरीके से मेडिकल बोर्ड (Fake Medical Letter) का प्रमाण पत्र लगाकर नौकरी कर रहे थे. फिलहाल पुलिस (Police) आरोपियों से पूछताछ कर रही है.

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

जानकारी के मुताबिक, महासमुंद की पिथौरा पुलिस ने दो फर्जी शिक्षाकर्मी भाई-बहन को गिरफ्तार किया है. दोनों एक ही परिवार के सगे भाई बहन हैं जो फर्जी विकलांग प्रमाण पत्र के सहारे नौकरी कर रहे थे. बताया जा रहा है कि 2005 के शिक्षाकर्मी भर्ती में दोनों ने बहरेपन को लेकर मेडिकल बोर्ड का फर्जी प्रमाण पत्र लगाया था. इसके बाद दोनों फर्जी तरीके से शिक्षक बनकर राजाडेरा और सरकड़ा स्कूल में पदस्थ थे और नौकरी कर रहे थे. दोनों फर्जी शिक्षकों का नाम राकेश सिन्हा और रजनी सिन्हा बताया जा रहा है.

शिकायत के बाद हुई कार्रवाई

आपको बता दें कि अर्जुनी निवासी डालेश्वर पटेल ने दोनों के फर्जी नौकरी की शिकायत दो माह पहले पिथौरा थाने में की थी. इसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई थी. जांच के दौरान पुलिस को विकलांग प्रमाण पत्र में तय तिथि में मेडिकल बोर्ड द्वारा प्रमाण पत्र नहीं जारी करना पाया गया. इसके बाद पूरे मामले का खुलासा हुआ. खुलासे के बाद मंगलवार को पिथौरा पुलिस ने दोनों फर्जी शिक्षाकर्मी को हिरासत में लेकर गिरफ्तार कर लिया है. मामले में पुलिस दोनों से लगातार पूछताछ कर रही है.

ये भी पढ़ें: 

नेशनल हाईवे के पास IED ब्लास्ट, CRPF का जवान बुरी तरह जख्मी  नक्सलियों के खिलाफ हो सकता है बड़ा ऑपरेशन, कैडर लीडर रहेंगे टारगेट पर  

न्यायिक अधिकारियों को देनी होगी प्रॉपर्टी की जानकारी, हाईकोर्ट का आदेश  

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए महासमुंद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 6:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर