Home /News /chhattisgarh /

बोरियों की कमी के चलते लाखों क्विंटल धान खुले आसमान के नीचे

बोरियों की कमी के चलते लाखों क्विंटल धान खुले आसमान के नीचे

छत्तीसगढ़ के जांजगीर में बोरियों की कमी के चलते लाखों क्विंटल धान खुले आसमान के नीचे पड़ा है. बदलते मौसम और बारिश की आशंका के चलते किसान रतजगा कर अपने खून-पसीने की कमाई की रखवाली करने को मजबूर हैं.

    छत्तीसगढ़ के जांजगीर में बोरियों की कमी के चलते लाखों क्विंटल धान खुले आसमान के नीचे पड़ा है. बदलते मौसम और बारिश की आशंका के चलते किसान रतजगा कर अपने खून-पसीने की कमाई की रखवाली करने को मजबूर हैं.

    ग्रामीण बैंक के अधिकारी बोरियों की कमी का रोना रो रहे हैं. वहीं, किसान नेता जल्द समस्या का समाधान नहीं होने पर जिला ग्रामीण बैंक के घेराव की चेतावनी दे रहे हैं. गौरतलब है कि जांजगीर जिले में कुल 206 समितियों के माध्यम से समर्थन मूल्य पर किसानों से धान खरीदी की जाती है और जब तक धान का तौल नहीं हो जाता है तब तक धान की रखवाली का जिम्मा किसानों पर ही रहता है.

    ऐसे में किसान घर को छोड़ कर खरीदी केंद्रों में अपने धान की रखवाली करते हुए रात गुजारते हैं. चाम्पा ग्रामीण बैंक के शाखा प्रबंधक शैलेन्द्र तिवारी के मुताबिक, बोरियों की कमी के चलते किसानों का धान तौल नहीं हो पा रहा है, जिसके चलते खरीदी केन्द्रों पर आए दिन विवाद की स्थिति बनती रहती है.

    जांजगीर जिले में अब तक 50 लाख से अधिक क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है जिसमें से 50 प्रतिशत से अधिक धानों का परिवहन किया जा चुका है. लगभग 25 प्रतिशत धानों का परिवहन शेष है और 25 प्रतिशत धानों का बोरियों की कमी के चलते तौल होना बाकी है. ऐसे में अगर बारिश हो जाती है तब खुले आसमान के नीचे रखे लाखों क्विंटल धान को बचाना किसानों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगा.

    Tags: Chhattisgarh news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर