• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • आदिवासी बाहुल्य इलाके लोरमी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को मिला ये खास अवार्ड

आदिवासी बाहुल्य इलाके लोरमी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को मिला ये खास अवार्ड

मरीजों के बेहतर इलाज एवं देखरेख के लिए सर्टिफिकेट व सम्मान मिला है.

मरीजों के बेहतर इलाज एवं देखरेख के लिए सर्टिफिकेट व सम्मान मिला है.

छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले के लोरमी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को नेशनल क्वालिटी एश्योरेन्स अवार्ड मिला है.

  • Share this:
मुंगेली. छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले के लोरमी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को नेशनल क्वालिटी एश्योरेन्स अवार्ड मिला है. मरीजों के बेहतर इलाज एवं देखरेख के लिए सर्टिफिकेट व सम्मान मिला है. 91.8 प्रतिशत अंको के साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोरमी को सर्वोच्च स्थान मिला है. कोरोना वायरस के साथ जारी जंग के बीच मुंगेली स्वास्थ विभाग के लगातार ड्यूटी में तैनात डॉक्टर और स्वास्थकर्मियों के हौसले के कारण ये संभव होना बताया जा रहा है.

लोरमी ब्लाक के सामुदायिक स्वास्थ केंद्र को नेशनल क्वालिटी एश्योरेन्स अवार्ड से नवाजा गया है. फरवरी माह में दिल्ली से टीम आई थी और दो दिन रहकर लोरमी अस्पताल के कार्यशैली और सुविधाओं का गहराई से अवलोकन किया, जिसके बाद लोरमी के इस शासकीय अस्पताल में राष्ट्रीय स्तर के बेहतर सुविधाओं के लिये 92 प्रतिशत अंक देकर इस अवार्ड से सम्मानित किया. बैगा आदिवासी बाहुल्य लोरमी इलाके के इस शासकीय अस्पताल में बीएमओ डॉ. जीएस दाऊ के नेतृत्व में स्वास्थ टीम मरीजों को बेहतर से बेहतर सुविधा देने में जुटे हैं.

मरीजों को इन सुविधाओं का दावा
स्वास्थ्य विभाग के सभी राष्ट्रीय प्रोग्राम,प्रसूति आपरेशन कक्ष, ओपीडी, रेडियोलाजी, पीपी यूनिट, पैथालाजी, ब्लड बैंक, जैसी सुविधाएं इस ब्लाक स्तर के अस्पताल में उपलब्ध होने का दावा किया गया है. दिल्ली की टीम की रिपोर्ट पर भारत सरकार स्वास्थ मंत्रालय नई दिल्ली के संयुक्त सचिव विकासशील ने छत्तीसगढ़ के स्वास्थ सचिव निहारिका बारिक को इसकी जानकारी दी. पूरे प्रदेश में लोरमी को मिले इस अवार्ड और सर्टीफीकेट के लिये मुंगेली कलेक्टर सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने कहा कि अब इसे सुचारू रूप से जारी रखना भी चुनौती होगी.

ये भी पढ़ें:
लॉकडाउन 2.0: बिजली बिल ने बढ़ाई चिंता, किसी को नहीं मिला सरकार की इस योजना का लाभ

लॉकडाउन 2.0: 'एक वक्त का खाना अपने पैसों से और एक वक्त भूखे रहना पड़ता था'

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज