• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • मुंगेली: लॉकडाउन बढ़ने से मजदूर परेशान, वीडियो कॉल कर अधिकारी दे रहे समझाइश

मुंगेली: लॉकडाउन बढ़ने से मजदूर परेशान, वीडियो कॉल कर अधिकारी दे रहे समझाइश

अधिकारी लगातार मजदूरों को समझाइश दे रहे हैं.

अधिकारी लगातार मजदूरों को समझाइश दे रहे हैं.

पूरे देश में कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने लॉकडाउन (Lock down) की समय सीमा बढ़ाकर अब 3 मई कर दी गई है.

  • Share this:
मुंगेली. पूरे देश में कोरोना वायरस (COVID-19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने लॉकडाउन (Lock down) की समय सीमा बढ़ाकर अब 3 मई कर दी गई है. इससे दूसरे राज्यों में फंसे मजदूर परेशान होने लगे हैं. ये मजदूर 14अप्रैल के बाद वापसी की उम्मीद लगाए बैठे थे लेकिन स्थिति नियंत्रित नहीं होने से सरकार ने समय सीमा बढ़ा दी है. वहीं बात करें मुंगेली की तो दूसरे राज्यों में फंसे मुंगेली जिले के मजदूरों से लगातार मोबाइल

के माध्यम से जिले के अधिकारी बात कर रहे हैं और उन्हें आवश्यक मदद भी पहुंचा रहे है. जिले के अधिकारी इन मजदूरों से मोबाइल कॉल और वीडियो कॉल से बात करते हैं. साथ ही मजदूरों को ढांढस बंधाते हुए धैर्यता के साथ जो जहां है वहीं रहने की अपील कर रहे हैं.


कलेक्ट्रेट में बनाया गया कंट्रोल रूम


मुंगेली कलेक्ट्रेट में कोरोना कंट्रोल रूम बनाया गया है जहां कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे

जिला पंचायत सीईओ राशि नुपूर पन्ना ,डीईओ डीपीओ सभी अधिकारियों के साथ मौजूद रहते हैं. लखनऊ, केरल, महाराष्ट्र, दिल्ली, जम्मू कश्मीर सहित दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को सुविधाएं उपलब्ध कराने में जुटे हुए हैं. जिला पंचायत की सीईओ नुपूर पन्ना ने बताया कि दूसरे राज्यों में मुंगेली जिले के मजदूरों की 223 यूनिट में 3249 मजदूर फंसे हुए हैं जिनसे लगातार संपर्क किया जा रहा है. सभी को

राशन दवा और आवश्यक सामाग्री उपलब्ध कराने के साथ-साथ राशि भी उनके एकाउंट में डाला जा रहा है.


अकाउंट में डाली जा रही राशि


 जिला पंचायत की सीईओ नुपूर पन्ना ने बताया कि  मजदूरों के अकाउंट में 4 लाख 32हजार रूपये

से अधिक की राशि भी डाली गई है जिससे उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी न हो. राशन उपलब्ध नहीं होने पर वहां के प्रशासन से बात करके मदद उपलब्ध कराने की पहल जा रही है. वही कलेक्टर डॉ. भुरे ने बताया कि पूरी संवेदनशीलता के साथ अधिकारी फंसे मजदूरों से सपंर्क बनाए हुए हैं. यथासम्भव मदद पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है.


ये भी पढ़ें: 




पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज