• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • मुंगेली में ‘‘पढ़ाई तुंहर दुआर’’ योजना शुरू, पोर्टल के जरिए घर में ही लगेगी बच्चों की क्लास

मुंगेली में ‘‘पढ़ाई तुंहर दुआर’’ योजना शुरू, पोर्टल के जरिए घर में ही लगेगी बच्चों की क्लास

सरकार की योजना का लाभ बच्चों को मिल रहा है. (Demo Pic)

सरकार की योजना का लाभ बच्चों को मिल रहा है. (Demo Pic)

शिक्षा विभाग (Education Department) की महत्वकांक्षी योजना ‘पढ़ाई तुंहर दुआर’’ योजना के तहत मुंगेली जिले में भी ऑनलाइन शिक्षा की शुरुआत हो गई है.

  • Share this:

मुंगेली.  छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) शासन स्कूल शिक्षा विभाग (Education Department) की महत्वकांक्षी योजना ‘पढ़ाई तुंहर दुआर’’ योजना के तहत मुंगेली जिले में भी ऑनलाइन शिक्षा की शुरुआत हो गई है. जिले के कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के मार्गदर्शन में पूरे जिले के 50 हजार 881 विद्यार्थी और 3 हजार 931 शिक्षक विभाग के वेब पोर्टल में पंजीयन करा चुके हैं. जिला शिक्षाधिकारी जीपी भारद्वाज ने बताया कि स्कूल शिक्षा विभाग की महत्वकांक्षी योजना ‘‘पढ़ाई तुम्हर दुआर’’ योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए जिले के 56 संकुलों में संकुल नोडल अधिकारियों का चयन किया जा चुका है.

हर विकासखण्ड में विकास खण्ड प्रभारी अधिकारी और विकासखण्ड नोडल अधिकारी को जिम्मेदारी दी गई है. जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि ‘‘पढ़ाई तुंहर दुआर’’ योजना के अंतर्गत कक्षा पहली से 12वीं तक के विद्यार्थी अपने घरों में बैठकर एंड्राइड फोन और सामान्य फोन के द्वारा विभिन्न विषयों के शैक्षणिक सामग्रियों को ऑडियो, वीडियों के रूप में देख और सुन सकेंगे. साथ ही चार स्तर पर ऑनलाइन कक्षाएं भी प्रारंभ हो चुकी है.

पढ़ाई का नहीं होता नुकसान

पहले स्तर पर राज्य स्तर से उत्कृष्ट शिक्षकों द्वारा ऑनलाइन अध्यापन,  दूसरे स्तर पर एससीईआरटी के विषय विशेषज्ञों  ऑनलाइन कक्षाएं ले रहे हैं. इसी प्रकार जिला स्तर पर डाइट के द्वारा चिन्हित उत्कृष्ट शिक्षकों द्वारा आनलाइन कक्षाएं और आडियो सामग्री तैयार किया जाएगा. विकासखण्ड, संकुल तथा स्कूल स्तर पर भी विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों को जागरूक करके शिक्षकों द्वारा कक्षा लिया जा रहा है.   गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को ध्यान में रखते हुए विषय विशेषज्ञों द्वारा वेब पोर्टल में ऑडियो, वीडियो, नोट्स और असाइनमेंट भी अपलोड किया जा रहा है, ताकि लाॅकडाउन जैसे इस कठिन स्थिति में भी बच्चों की पढ़ाई में नुकसान ना हो.

उन्होंने बताया कि पोर्टल में शिक्षकों द्वारा घर बैठे गृह कार्य देकर जांचने तक की सुविधा दी गई है. कोविड-19 जैसी गंभीर समस्याओं में भी छात्रों की पढ़ाई में कोई बाधा ना आए, इस उद्देश्य से इस वेब पोर्टल में वर्चुअल क्लास का भी निर्माण किया गया . इसमें स्कूल के शिक्षक और विद्यार्थी वर्चुअल कक्षाओं के द्वारा विषय की पढ़ाई करते हैं. यह योजना न केवल लाॅकडाउन की स्थिति में ही चलेगी, वरन स्कूलों के खुलने के बाद भी एक-दूसरे के पूरक बनकर कार्य करेंगे ताकि इस योजना का लाभ मुंगेली जिले के सभी स्कूली विद्यार्थियों के द्वारा लिया जा सके.

ऐसे कराना होगा पंजीयन
सीजी स्कूल डाॅट इन वेब पोर्टल में जाकर मोबाइल नंबर और कुछ जानकारी के साथ विद्यार्थी के रूप में पंजीयन करना होगा. इसके बाद वह अपने मोबाइल नंबर और पासवर्ड की सहायता से लाॅगिन करके अपलोडेड शैक्षणिक सामग्री और ऑनलाइन कक्षाओं में भाग ले सकेगें. अगर किसी एक परिवार में 3 विद्यार्थी अलग-अलग कक्षा में पढ़ाई कर रहे हैं तो उन्हें एक ही मोबाइल नंबर का पंजीयन करना होगा तथा तीनों विद्यार्थियों का नाम एवं कक्षा अपलोड करना होगा. इसके फलस्वरूप अलग-अलग कक्षाओं के विषय सामग्री तीनों विद्यार्थियों के द्वारा देखा जा सकेगा.  मुंगेली कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने लॉकडाउन के इस संकट के सभी शिक्षकों से छात्र-छात्राओं के बेहतर शिक्षा के लिए विभाग से प्राप्त निर्देशों का पालन करते हुए इस योजना को सफल सार्थक बनाने की बात कही.


ये भी पढ़ें: 




पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज