सरकार के मिड डे मील योजना में भारी गड़बड़ी, कलेक्टर ने दिया जांच का आश्वासन

बच्चों को पोषक आहार देने के लिए मुंगेली जिले में चलाए जा रहे मिड डे मील योजना में हो रही गड़बड़ियों को लेकर कलेक्टर ने जांच का आश्वासन दिया है.

Prashant Sharma | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: February 15, 2018, 12:49 PM IST
सरकार के मिड डे मील योजना में भारी गड़बड़ी, कलेक्टर ने दिया जांच का आश्वासन
सरकार के मिड डे मील योजना में भारी गड़बड़ी,
Prashant Sharma
Prashant Sharma | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: February 15, 2018, 12:49 PM IST
छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में कुपोषण का दंश झेलते बच्चों को पोषक आहार देने के लिए पूरे प्रदेश में मध्यान्ह भोजन की योजना चलाई जा रही है. हालांकि सरकार की इस योजना में भी इन दिनों भारी गड़बड़ियां सामने आ रही हैं.

आपको बता दें कि जिले के लोरमी इलाके में लच्छणपुर स्कूल में मिड डे मील में भारी गड़बड़ियां देखने को मिली हैं, जिसके बाद कलेक्टर ने अब जांच का आश्वासन दिया है.

गरीबों के राशन में डाका डालने के बाद अब मुंगेली जिले के शासकीय स्कूलों में बच्चों के मध्यान्ह भोजन में भी मासूमों का हक मारने का काम किया जा रहा है. वहीं इस बाद से जिम्मेदार पूरी तरह बेखबर हैं. मुंगेली जिले में गिनती के महज कुछ स्कूल ही ऐसे हैं, जहां मेन्यू के हिसाब से बच्चों को भोजन मिलता होगा. बाकी सारे स्कूलों में तो मिड डे मील की योजना औपचारिकता ही साबित हो रही है.

लिहाजा, बच्चों को मेन्यू के मुताबिक तो दूर मानक मात्रा में भी बच्चों को खाना नहीं मिल रहा है. मध्यान्ह भोजन संचालित करने वाले स्व सहायता समूह के अधिकारियों की मिलीभगत से बच्चों का हक मारने का काम हो रहा है. इन योजनाओं की मॉनिटरिंग करने वाले अधिकारी ही पैसों की लालच में आंखे फेरकर गड़बड़ी करने का लाइसेंस दे देते हैं, जिसका खामियाजा इन गरीब बच्चों को भूखे रहकर उठाना पड़ता है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर