छत्तीसगढ़ः रायगढ़ के स्टील प्लांट में डीजल टैंक को काटते वक्त धमाका, 4 मजदूर जख्मी

गंभीर रूप से घायल दो मजदूरों को रायपुर रेफर किया गया है (Demo PIc)
गंभीर रूप से घायल दो मजदूरों को रायपुर रेफर किया गया है (Demo PIc)

राजधानी रायपुर से करीब ढाई सौ किलोमीटर दूर रायगढ़ के पतरालापली गांव में स्थित इस प्लांट (Steel Plant) के फ्यूल टैंक में धमाके के कारणों की पुलिस जांच कर रही है. गंभीर रूप से घायल दो मजदूरों को रायपुर रेफर किया गया है.

  • Share this:
रायगढ़. छत्तीसगढ़ के रायगढ़ (Raigarh) में स्थित एक स्टील प्लांट के तेल टैंक (Fuel Tank) में धमाके से 4 मजदूर गंभीर रूप से जख्मी हो गए. घटना बुधवार की बताई जा रही है. रायगढ़ पुलिस के मुताबिक पुराने डीजल टैंक को गैस कटर से काटते समय यह धमाका हुआ. प्रदेश की राजधानी रायपुर से करीब ढाई सौ किलोमीटर दूर रायगढ़ के पतरालापली गांव में स्थित इस प्लांट (Steel Plant) के फ्यूल टैंक में धमाके के कारणों की पुलिस जांच कर रही है. गंभीर रूप से घायल दो मजदूरों को रायपुर (Raipur)  रेफर किया गया है.

स्क्रैप यार्ड में हुआ विस्फोट

रायगढ़ पुलिस के मुताबिक स्टील प्लांट के स्क्रैप यार्ड में बुधवार को कुछ मजदूर पुराने डीजल टैंक को गैस कटर की मदद से काट रहे थे. आशंका है कि इसी दौरान गैस कटर की आग और डीजल टैंक के संपर्क से प्लांट में जोरदार धमाका हुआ. कोटरा रोड पुलिस स्टेशन के प्रभारी युवराज तिवारी ने बताया कि डीजल टैंक में धमाके से वहां काम कर रहे 4 मजदूर घायल हो गए. धमाके की वजह से चारों मजदूर झुलस गए. पुलिस अधिकारी ने बताया कि इनमें से 2 गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं, जिन्हें बेहतर इलाज के लिए रायपुर भेजा गया है. बाकी 2 अन्य मजदूरों का इलाज रायगढ़ के हॉस्पिटल में ही कराय जा रहा है. पुलिस ने बताया कि स्टील प्लांट में धमाके के कारणों की गहराई से जांच-पड़ताल की जा रही है.



असम में गैस कुएं में आग से मारे गए 2 मजदूर
आपको बता दें कि बीते दिनों असम के तिनसुकिया स्थित ऑयल इंडिया लिमिटेड के गैस कुएं में आग लग गई थी. इस बारे में बताया गया कि पिछले 16 दिनों से इस कुएं से गैस निकल रही थी. बीते मंगलवार को अचानक कुएं में आग लग गई. इस वजह से दो मजदूरों की मौत हो गई है. गैस कुएं में लगी आग ने कुछ ही समय में इतना विकराल रूप धारण कर लिया कि स्थानीय प्रशासन को आसपास के इलाके को खाली कराना पड़ा. पूरे डेढ़ किलोमीटर के इलाके से लोगों को हटाकर इसे रेड जोन घोषित कर दिया गया. भीषण आग पर काबू पाने के लिए दमकलकर्मियों को भी कड़ी मशक्कत करनी पड़ी है, तब जाकर 16 दिनों के बाद यह आग बुझाई जा सकी है.

ये भी पढ़ें: 

Chhattisgarh COVID-19 Update: 24 घंटे में मिले 114 नए मरीज, अब तक 6 की मौत 

COVID-19: दिल्ली फिर से हो सकता है लॉकडाउन, अदालत में जनहित याचिका दायर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज