• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • भतीजे की हत्या करके जेल गया, 10 साल सजा काटी, बाहर आया तो साली को मार डाला

भतीजे की हत्या करके जेल गया, 10 साल सजा काटी, बाहर आया तो साली को मार डाला



रायगढ़ जिले के कोतरारोड थाना क्षेत्र के गोरखा में तीन दिन पहले 45 वर्षीय मीरा गुरुम की हत्या हुई थी..

रायगढ़ जिले के कोतरारोड थाना क्षेत्र के गोरखा में तीन दिन पहले 45 वर्षीय मीरा गुरुम की हत्या हुई थी..

Raigarh News: रायगढ़ जिले के कोतरारोड थाना क्षेत्र के गोरखा में तीन दिन पहले 45 वर्षीय मीरा गुरुम की हत्या हुई थी. आरोपी मृतिका का बहनोई ही निकला. पुलिस ने चक्रधर थाना के नवागढ़ी से उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. आरोपी ने बताया कि कुछ साल पहले उसने जमीन विवाद को लेकर अपने भतीजे की हत्या कर दी थी. उसे 10 वर्ष की सजा हुई थी और उड़ीसा की जेल में बंद था.

  • Share this:

रायगढ़. कोतरारोड थाना क्षेत्र के गोरखा में हुए महिला के अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने कुछ दिनों के भीतर ही सुलझा ली. आरोपित कोई और नहीं बल्कि मृतिका का बहनोई ही निकला. पुलिस ने चक्रधर थाना के नवागढ़ी से उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. हत्या की वजह आरोपित ने रोज-रोज की कहासुनी और पत्नी को भड़का कर दंपति के बीच दरार पैदा किए जाने को बताया. गुस्से में आकर उसने कुल्हाड़ी से हत्या कर दी.
दरअसल, कोतरारोड थाना क्षेत्र के गोरखा में बीते तीन दिन पहले सोमवार को करीब 6 बजे 45 वर्षीय मीरा गुरुम की हत्या उसके घर में ही किसी अज्ञात व्यक्ति ने धारदार हथियार से कर दी थी. सूचना पर पुलिस और डॉग स्क्वायड, एफएसएल, साइबर की टीम मौके पर पहुंची और अज्ञात आरोपी की तलाश शुरू कर दी थी. घटना के दिन घर पर महिला अकेली थी. मृतिका की बेटी चंद्रपुर माता चंद्रहासनी के दर्शन को गई हुई थी. बेटा अपने काम पर गया था. महिला का पति कुछ दिन पहले ही अपनी छोटी बेटी के साथ नेपाल गृह ग्राम को गया था. इसकी जानकारी आरोपी पूर्णचंद जयपुरिया को थी, जिसका फायदा उठाकर घर पर अकेली डेढ़ सास की हत्या कर आसानी से मौके से फरार हो गया.

पुलिस ने मामले की विवेचना करते हुए मृतिका की बहन के पति को नवागढ़ी से हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की, जिस पर वह टूट गया और अपना जुर्म कबूल कर लिया. आरोपी ने बताया कि कुछ साल पहले उसने जमीन विवाद में अपने भतीजे की हत्या कर दी थी, जिसमें उसे 10 वर्ष की सजा हुई थी और वह उड़ीसा की जेल में बंद था. इस दौरान आरोपी अपनी खेत को 10 हजार रुपये में गिरवी रखकर पैसे पत्नी को दिया था. जेल में रहने के दौरान दरी-गमछा बनाकर कुछ पैसा कमाता था. उन पैसों को पत्नी और बच्चों को जेल में मुलाकात के दौरान देता था.

आरोपी ने अपने बयान में कहा, “पतरापाली में रहते समय पत्नी बच्चे मुझे छोड़कर गोरखा में डेढ़ सास मीरा के यहां रहती थी. बाद में वह उन्हीं के घर के पास चली गई, जहां जेल से छूटने के बाद उनसे मिलने का प्रयास किया, लेकिन पत्नी एवं बच्चे उसे अपने साथ रखने तैयार नहीं हुए.” आरोपी का कहना है कि मृतिका मीरा गुरूंग द्वारा उसकी पत्नी और बच्चों को उसके खिलाफ भड़काती थी. उसी के भड़काने के कारण उसकी पत्नी और बच्चे साथ रहने के लिए तैयार नहीं थे. और इधर-उधर भटक रहा था जिस कारण हत्या कर दी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज