अपना शहर चुनें

States

इसलिए दिलचस्प हो सकता है धरमजयगढ़ सीट पर मुकाबला

सांकेतिक फोटो.
सांकेतिक फोटो.

धरमजयगढ़ विधानसभा में एक तरफ कांग्रेस के पूर्व मंत्री चनेशराम राठिया की प्रतिष्ठा दांव पर है तो दूसरी ओर पूर्व संसदीय सचिव ओमप्रकाश राठिया अपनी राजनीतिक प्रतिष्ठा बचाने जद्दोजहद कर रहें हैं.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ के रायगढ़ के धरमजयगढ़ विधानसभा सीट पर इस बार दिलचस्प मुकाबला होने की उम्मीद है. कांग्रेस और भाजपा की राह में रोड़ा अटकाने की पूरी तैयारी की जा रही है. सुदूर वनांचल क्षेत्र हाथी की समस्याओं से जूझ रहा है. इसके अलावा बुनियादी सुविधा भी अब तक क्षेत्रवासियों को नसीब नहीं हुई है. ऐसे में कांग्रेस व भाजपा दोनों ही पार्टियों को यहां की जनता को साधने में चुनौती का सामना करना पड़ सकता है.

धरमजयगढ़ विधानसभा में एक तरफ कांग्रेस के पूर्व मंत्री चनेशराम राठिया की प्रतिष्ठा दांव प है तो दूसरी ओर पूर्व संसदीय सचिव ओमप्रकाश राठिया अपनी राजनीतिक प्रतिष्ठा बचाने जद्दोजहद कर रहें हैं. चनेशराम राठिया के पुत्र लालजीत सिंह राठिया वर्तमान में कांग्रेस के विधायक है. भाजपा ने ओमप्रकाश राठिया की बहू लीनव राठिया को प्रत्याशी बनाया है. वहीं छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की ओर से नवल राठिया ने भी ताल ठोक दिया है.

क्षेत्र में हाथी की समस्या के साथ साथ बुनियादी सुविधाओं का काफी अभाव है. मगर प्रत्याशी अपनी अपनी जीत का दावा कर रहें है. भाजपा प्रत्याशी लीनव राठिया का कहना है कि इस बार यहां की जनता भाजपा का साथ देगी. दूसरी ओर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रत्याशी नवल राठिया का कहना है कि जनता ने कांग्रेस और भाजापा दोनों पर भरोसा जताया, लेकिन कोई भी उनके भरोसे पर खरा नहीं उतरा. ऐसे में इस बार जनता उनका साथ देगी.



भाजपा में एक ही परिवार से टिकट दिए जाने का भीतर से विरोध शुरू हो गया है. 6 दावेदारों की दावेदारी पर उस वक्त पानी फिर गया, जब भाजपा ने पूर्व संसदीय सचिव ओमप्रकाश राठिया की बहू को प्रत्याशी घोषित किया. कांग्रेस में भी टिकट को लेकर घमासान जारी है. बीते चुनाव में 20 हजार से अधिक वोटो से कांग्रेस ने भाजपा के प्रत्याशी ओमप्रकाश राठिया को पराजित किया था. इस बार खेल बिगाड़ने छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस हर संभव प्रयास कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज