लाइव टीवी

मां की याद में कबूतरों के लिए बनवाई 11 मंजिला इमारत, लोगों ने नाम दिया Love टॉवर
Raigarh News in Hindi

News18 Chhattisgarh
Updated: February 17, 2020, 6:59 PM IST
मां की याद में कबूतरों के लिए बनवाई 11 मंजिला इमारत, लोगों ने नाम दिया Love टॉवर
11 मंजिला इमारत के हर खण्ड में 44 कबूतर एक साथ रह सकते हैं.

बेजुबान पक्षियों (Birds) से प्रेम (Love) तो कई करते हैं, लेकिन बिरले लोग होते हैं, जिनका प्यार मिसाल बन जाता है. रायगढ़ (Raigad) के गांधी गंज में कबूतरों के लिए बनी 11 मंजिला इमारत ऐसी ही एक मिसाल है.

  • Share this:
रायगढ़. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के रायगढ़ (Raigad) को कला और संस्कृति के साथ ही दानवीर की नगरी भी कहा जाता है. बेजुबान पक्षियों (Birds) से प्रेम (Love) तो कई करते हैं, लेकिन बिरले लोग होते हैं, जिनका प्यार मिसाल बन जाता है. रायगढ़ के गांधी गंज में कबूतरों के लिए बनी 11 मंजिला इमारत ऐसी ही एक मिसाल है. इस इमारत में 400 से अधिक कबूतर रहते हैं. इतना ही नहीं, हर वर्ष यहां इमारत बनने की तारीख पर कबूतरों का बर्थ डे भी सेलिब्रेट किया जाता है. इस इमारत को प्रेम व शांति का प्रतीक भी माना जाता है.

रायगढ़ (Raigarh) के गांधी गंज 26 दिसम्बर 1946 को रायसाहब हरीलाल सामजी के परिवार वालों ने अपनी माता भानी बाई की याद में कबूतरों के लिए इमारत बनवाई थी. इस 11 मंजिला इमारत के हर खण्ड में 44 कबूतर एक साथ रह सकते हैं. कुल इमारत इस टावर में 400 से अधिक कबूतर एक साथ अपनी पीढ़ी को आगे बढ़ा रहे हैं. इस इमारत के निर्माण के पीछे का उद्देश्य यही था कि बेजुबान पक्षियों को आश्रय मिले और अपना परिवार आगे बढ़ा सकें.

Chhattisgarh
रायगढ़ में गांधी गंज में बनाई गई इमारत.


कहीं नहीं ऐसी इमारत



संभवत: ये देश की पहली 11 मंजिला इमारत है जो कबूतरों के लिए ही बनाई गई है. 400 से अधिक कबूतर यहां एक साथ रहते हैं. लोग पक्षियों को दाना जरूर खिलाते हैं, मगर आज तक पक्षियों के लिए विशेष कर कबूतरों के लिए इस तरह का 11 मंजिला टावर किसी ने नहीं बनाया. शहरवासी जिस दिन टॉवर बना था, उस दिन को जन्म दिन के रूप में मनाते हैं.

Chhattisgarh
इस इमारत में एक साथ 4सौ कबूतर एक साथ रहते हैं.


ऐसे होती है दाना पानी की व्यवस्था
यहां बसेरा बनाए कबूतरों को रोज दाना डाला जाता है. कबूतरों को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया जाता. यही वजह है कि विपरीत परिस्थितियों में भी जिले में कबूतरों की संख्या में लगतार इजाफा हो रहा है. स्थानीय लोग ही कबूतरों के लिए दाना पानी का इंतजाम करते हैं. इसके तहत आपस में मिलकर ही कवायद की जाती है. कबूतरों की सुरक्षा का जिम्मा भी स्थानीय लोग ही उठाते हैं.

ये भी पढ़ें:
बस्तर में कुपोषण से जंग के बीच आंगनबाड़ी केन्द्रों में नहीं मिल रहा दूध, 4 महीने से सप्लाई ठप

सोशल मीडिया में वायरल: दुर्ग सांसद विजय बघेल बने छत्तीसगढ़ BJP के नए अध्यक्ष, हैरत में हाई कमान 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 5:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर