रायपुर: कस्टोडियन ने ATM से गायब किए 17 लाख, जुआ-शराब में उड़ाया पैसा; 2 गिरफ्तार

दोनों आरोपी धरमजयगढ़ पुलिस की हिरासत में हैं.

दोनों आरोपी धरमजयगढ़ पुलिस की हिरासत में हैं.

पुलिस विवेचना में आरोपी रामविलास चौहान बताया कि 2015 से दोनों एटीएम ऑपरेटर का काम कर रहे हैं. दोनों चार एटीएम -धरमजयगढ़ एसबीआई एटीएम, धरमजयगढ़ एक्सिस बैंक एटीएम, पत्थलगांव एचडीएफसी एटीएम और बागबाहर एसबीआई एटीएम में पैसा डालने के लिए राइटर बिजनेस प्राइवेट लिमिटेड रायपुर से अधिकृत थे.

  • Share this:

रायगढ़. एटीएम कस्टिडियन के रूप में कार्यरत दो युवकों ने कम्पनी में 17 लाख से अधिक की हेराफेरी की. दोनों आरोपी सालभर से रुपये निकाल रहे थे. ऑडिट पर पूरा मामला उजागर हुआ. दोनों आरोपी धरमजयगढ़ पुलिस की हिरासत में हैं. दोनों ने जुआ, शराब, और बाइक खरीदने में पैसा उड़ा दिया. रायगढ के धरमजयगढ़ थाना क्षेत्र में कार्यरत राईटर विजनेश सर्विसेज प्रा. लिमिटेड के सहायक प्रबंधक विपिन कुमार सिंह निवासी मोदी नगर रायगढ़ थाना चक्रधरनगर रायगढ़ ने थाना धरमजयगढ़ में कम्पनी में कार्यरत एटीएम कस्टिडियन राम विलास चौहान तथा रोशन तिगगा के खिलाफ दो एटीएम में डाले गए रुपए में 17,71,000 कम पाए जाने के संबंध में रिपोर्ट दर्ज कराई थी. आवेदन पत्र पर दोनों आरोपियों के विरुद्ध धारा 409, 34 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया.

कर्मचारी राम विलास चौहान पिता शंकरराम चौहान उम्र 27 साल निवासी धवीटोली सिंगिबहार थाना तपकरा जिला जशपुर और रोशन तिग्गा पिता फबियानुस तिग्गा उम्र 26 साल निवासी सारसबहार चटकपुर डंण्डा डीह थाना दुलदुला जिला जशपुर एटीएम कस्टोडियन के रूप में नियुक्त थे. दोनों कस्टोडियन को भारतीय स्टैट बैंक शाखा धरमजयगढ़ से प्रदान किए गए इंडेट के अनुसार नगदी निकालने तथा एटीएम में लोड करने की जिम्मेदारी सौपी गई थी. 4 मई को ऑडिट और जांच के बाद नगदी रकम 17,71000 रुपये कम पाई गई. दोनों एटीएम अंतिम बार दिनांक 27 अप्रैल को विजिट किए गए थे.

पुलिस ने विवेचना के बाद दोनों आरोपियों को हिरासत में लिया. आरोपी रामविलास चौहान बताया कि 2015 से दोनों एटीएम ऑपरेटर का काम कर रहे हैं. दोनों चार एटीएम -धरमजयगढ़ एसबीआई एटीएम, धरमजयगढ़ एक्सिस बैंक एटीएम, पत्थलगांव एचडीएफसी एटीएम और बागबाहर एसबीआई एटीएम में पैसा डालने के लिए राइटर बिजनेस प्राइवेट लिमिटेड रायपुर से अधिकृत थे. रायगढ़ कार्यालय से जितने भी एटीएम में पैसा डालने का काम करते हैं, उनका एक WBS रायगढ़ में ग्रुप बना है. किस एटीएम में पैसा डालना है, मेल के जरिये जानकारी मिलती थी. मेल से प्राप्त वाउचर के जरिए धर्मजयगढ़ के एसबीआई बैंक से रुपये निकालते और ATM में डाला करते थे. चारों एटीएम की चाबी इनके पास रहती थी. एटीएम खोलने के लिए इनके ऐप में रिक्वेस्ट भेजकर पासवर्ड प्राप्त करते थे और मशीन खोलकर पहले एटीएम से स्लिप निकाल कर बैलेंस चेक कर कम्पनी से मिले एडमिन कार्ड से बैलेंस चेक और लॉगिन करते थे. पिछले 7 महीने से धर्मजयगढ़ और बागबाहर एसबीआई एटीएम से लॉगिन करके पैसा निकालते थे. दोनों ने लगभग 17 लाख 71 हजार रुपए निकाले हैं. आरोपी रामविलास चौहान एटीएम से निकाले पैसे जुए में हार जाना तथा इसका साथी रोशन तिग्गा बंटवारे में मिले रकम में से मोटरसाइकिल खरीदना तथा परिवारजनों का इलाज कराना और घूमने खाने-पीने में खर्च करना बताया है. दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर पुलिस अभिरक्षा में रखा गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज