लाइव टीवी

खुलासा: अतंगगढ़ उपचुनाव में 6 प्रत्याशियों को था 1-1 करोड़ रुपये का ऑफर, मिले सिर्फ 50 हजार

Awadhesh Mishra | News18 Chhattisgarh
Updated: September 19, 2019, 2:27 PM IST
खुलासा: अतंगगढ़ उपचुनाव में 6 प्रत्याशियों को था 1-1 करोड़ रुपये का ऑफर, मिले सिर्फ 50 हजार
मंतूराम पवार ने गुरुवार को रायपुर प्रेस क्लब में उपचुनाव के छह अन्य प्रत्याशियों के साथ प्रेस वार्ता ली.

साल 2014 में अंतागढ़ विधानसभा (Antagarh Assembly) सीट पर उपचुनाव में मैदान छोड़ने वाले कांग्रेस (Congress) प्रत्याशी मंतूराम पवार ने प्रत्याशियों की खरीद फरोख्त को लेकर खुलासे किए.

  • Share this:
रायपुर: अंतागढ़ उपचुनाव (Atanggarh By-election) में प्र​त्याशियों की खरीद फरोख्त मामले में नया खुलासा किया गया है. मंतूराम पवार (Manturam Pawar) ने गुरुवार को रायपुर (Raipur) प्रेस क्लब में उपचुनाव के छह अन्य प्रत्याशियों के साथ प्रेस वार्ता ली. इसमें उन्होंने बड़े खुलासे किए. मंतूराम ने कहा कि मेरे अलावा दूसरे प्रत्याशियों को भी उपचुनाव से नाम वापस लेने पैसों के ऑफर दिए गए थे. इसकी लालच में ही सबने मैदान छोड़ा था, लेकिन ऑफर देने वालों ने उनके साथ धोखा दिया.

मंतूराम पवार ने बताया कि अंतागढ़ उपचुनाव (Atanggarh By-election) में नाम वापसी के लिए सात करोड़ रुपये का ऑफर दिया गया था, लेकिन मुझे पैसे नहीं मिले. मेरे अलावा छह और प्रत्याशियों को 1-1 करोड़ रुपये का ऑफर दिया गया था, लेकिन उन्हें सिर्फ 50-50 हजार रुपये ही दिए गए. इसको लेकर इन प्रत्याशियों ने भी कोर्ट में 164 के तहत बयान दर्ज कराया गया है. इस मामले में बीते 18 सितंबर को धमतरी के एक पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है.

दिल्ली में मिले थे रमन सिंह से
मंतूराम पवार ने कहा कि अंतागढ़ उपचुनाव के बाद 3 नवम्बर 2015 को मुझे दिल्ली बुलाया गया था. दिल्ली में डॉ. रमन सिंह, पुनीत गुप्ता, फिरोज सिद्दकी से मुलाकात हुई थी. रमन सिंह ने कहा था- पुनीत गुप्ता यहां है राजेश मूणत से मिलकर सब सेट कर देंगे, तुम चिंता मत करो सब बेहतर होगा. लेकिन बीजेपी में उन्हें न तो पद मिला और न ही प्रतिष्ठा.

रमन सिंह ने मंतूराम को खरीदा
मंतूराम पवार ने आरोप लगाया कि बीजेपी के लोग ही कहते थे कि पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने मंतूराम को खरीदा है. मुझे दादागिरी कर के पार्टी से बाहर निकाला गया. रमन सिंह दोषी थे, मुझे बीजेपी से बाहर किया गया. मुझे बेचने वाला अजीत जोगी और खरीदने वाला रमन सिंह थे. रमन सिंह हमेशा कहते थे कि मैं तो 7 करोड़ दे चुका हूं, तुम्हे नहीं मिला तो गया कहां.

क्या है अंतागढ़ टेपकांड
Loading...

बता दें कि साल 2014 में लोकसभा चुनाव के बाद खाली हुई अंतागढ़ विधानसभा सीट पर उपचुनाव हो रहा था. उपचुनाव में कांग्रेस ने मंतूराम पवार को प्रत्याशी बनाया था, लेकिन मंतूराम पवार ने ऐसे समय अपना नाम वापस ले लिया, जब कांग्रेस दूसरा प्रत्याशी खड़ा नहीं कर सकती थी. मंतूराम के अलावा 7 अन्य प्रत्याशियों ने भी नाम वापस ले लिया था. इससे चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी को एक तरह से वॉक ओवर मिल गया. चुनाव के बाद एक आडियो वायरल हुआ, जिसमें नाम वापसी के लिए प्रत्याशियों की खरीद फरोख्त होने का हवाला था. आडियो में ​कथित तौर पर अमित जोगी, मंतूराम पवार, डॉ. पुनीत गुप्ता, अजीत जोगी की आवाज बताई गई. इसी मामले में कांग्रेस की सरकार राज्य में बनने के बाद नये सिरे से जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया है.
वीडियो में देखें मंतूराम ने क्या खुलासे किए



ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में विरोधियों को कानूनी दावपेंच से मात देने की तैयारी में कांग्रेस सरकार! 

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे फरियादी की CM हाउस में कटी जेब, थाने में शिकायत दर्ज 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 2:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...