Home /News /chhattisgarh /

9 transgender selected in bastar fighters selection list police recruitment exam fight with naxalites cgnt

बस्तर फाइटर्स में 9 थर्ड जेंडर भी चयनित, सूची जारी, नक्सलियों से जंग के लिए तैयार होंगे 'योद्धा'

छत्तीसगढ़ में बस्तर फाइटर्स में 9 ट्रांसजेंडर का चयन किया गया है.

छत्तीसगढ़ में बस्तर फाइटर्स में 9 ट्रांसजेंडर का चयन किया गया है.

छत्तीसगढ़ पुलिस के बस्तर फाइटर्स विंग के भर्ती परीक्षा की चयन सूची जारी कर दी गई है. बस्तर संभाग के सभी 7 जिलों में भर्ती परीक्षा आयोजित की गई थी. इसके लिए 51 हजार से ज्यादा अभ्यार्थियों ने आवेदन किया था, जिनमें 16 थर्ड जेंडर भी शामिल थे. इनमें से 9 का चयन बस्तर फाइटर्स के लिए कर लिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

स्वतंत्रता दिवस पर बस्तर फाइटर्स की चयन सूची जारी की गई
बस्तर संभाग के जिलों से 51 हजार से ज्यादा आवेदन बस्तर फाइटर्स बनने के लिए आए थे
तृतीय लिंग समुदाय के 16 आवेदनों में से 9 का चयन हुआ है

रायपुर.  छत्तीसगढ़ पुलिस के स्पेशल विंग बस्तर फाइटर्स में अभ्यार्थियों की चयन सूची जारी कर दी गई है. बीते 15 अगस्त को चयनित अभ्यार्थियों की सूची बस्तर पुलिस ने जारी की. बस्तर फाइटर्स के लिए जिलावार भर्तियां की गई हैं. बस्तर संभाग के सभी जिलों में चयनित कुल 608 अभ्यार्थियों के नामों की सूची जारी की गई. इसमें 9 थर्ड जेंडर भी शामिल हैं. बस्तर जिले से एक और कांकेर जिले से 8 थर्ड जेंडर का चयन बस्तर फाइटर्स में किया गया है. बस्तर पुलिस के आईजी सुंदराज पी ने बताया कि शारीरिक दक्षता, लिखित परीक्षा और फिर साक्षात्कार के बाद ये चयन सूची जारी की गई है.

छत्तीसगढ़ तृतीय लिंग कल्याण बोर्ड की सदस्य विद्या राजपूत ने बताया कि राज्य पुलिस विभाग द्वारा भर्ती परीक्षाओं में तृतीय लिंग का कॉलम देने के कारण बड़ी उपलब्धि समुदाय के लोगों को मिली है. पहले तृतीय लिंग समुदाय के 13 सदस्य पुलिस आरक्षक बने. अब पुलिस के ही बस्तर फाइटर्स विंग में समुदाय के 9 सदस्यों का चयन किया गया है. विद्या का कहना है कि ये ट्रांसजेंडर समुदाय के साथ ही पूरे विश्व के लिए गर्व की बात है. विद्या ने बताया कि बस्तर फाइटर्स के लिए कड़ी मेहनत और लगन से पुलिस की बौद्धिक और शारीरिक परीक्षा ट्रांसजेंडर्स ने पास की है.

हुनर दिखाने का मौका
समुदाय अधारित मितवा संकल्प समिति चलाने वाली विद्या का कहना है कि पुलिस भर्ती में शामिल प्रतिभागियों ने भारतवर्ष और विश्व को यह संदेश दिया है कि उन्हें अपने हुनर दिखाने का मौका मिले तो वे स्त्री-पुरुष से कंधा से कंधा मिलाकर चल सकते हैं और वे भी सम्मानपूर्ण जीवन के हकदार हैं. तृतीय लिंग व्यक्ति को समाज में कलंक माने जाने के कारण वे परिवार और समाज से बहिष्कृत ही रहे हैं. वे पूरी तरह से सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक व सांस्कृतिक जीवन में प्रतिभागी होने से वंचित रहे हैं. चयनित प्रतिभागी दिव्या निषाद कहती है कि ” स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जारी चयन सूची में मेरा नाम होना मेरे लिए दोहरी खुशी है. मेरे पास कोई शब्द ही नहीं है कि मैं इस खुशी को व्यक्त कर पाऊं. मैं और मेरी सभी साथियों ने इस परीक्षा के लिए बहुत मेहनत किया. यह हमारे लिए ऐसा अवसर था जिससे हमारी जिंदगी बदल सकती थी. इसलिए सबने दिन-रात मेहनत की थी.”

इन प्रतिभागियों का चयन
ट्रान्सजेंडर समुदाय से बस्तर फाइटर्स में जगदलपुर से एक बरखा बघेल का चयन हुआ है. जबकि कांकेर जिले से चयनित तृतीय लिंग प्रतिभागियों दिव्या निषाद, दामिनी,संध्या, सानू , रानी हिमांशी, रिया, सीमा शामिल हैं. बस्तर फाइटर्स के लिए संभाग के कुल 7 जिलों में कुल 53 हजार 336 आवेदन मिले थे. इनमें से 16 आवेदन तृतीय लिंग समुदाय से थे. जबकि 37 हजार 498 पुरुष और 15 हजार 822 महिला श्रेणी से आवेदन मिले थे. 16 में से 9 तृतीय लिंग समुदाय के लोगों का चयन हुआ है.

Tags: Chhattisgarh news, Raipur news, Transgender

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर