भगवान राम के ननिहाल को संवारेगी बघेल सरकार, 16 करोड़ से होगा कौशल्या मंदिर का विकास
Raipur News in Hindi

भगवान राम के ननिहाल को संवारेगी बघेल सरकार, 16 करोड़ से होगा कौशल्या मंदिर का विकास
बीते 22 दिसंबर को चंदखुरी स्थित माता कौशल्या मंदिर के सौंदर्यीकरण के लिए भूमि-पूजन किया गया था.

छत्तीसगढ़ स्थित चंदखुरी (Chandkuri) में भगवान राम के ननिहाल में कौशल्या मंदिर का सौंदर्यीकरण और परिसर का विकास के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) जारी की राशि. दो फेज में पूरा होगा काम.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 2, 2020, 3:12 PM IST
  • Share this:
रायपुर. भगवान राम (Lord Ram) के ननिहाल चंदखुरी (Chandkuri) का सौंदर्य अब पौराणिक कथाओं के नगरों जैसा ही आकर्षक होगा. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर (Raipur) के निकट स्थित इस गांव के प्राचीन कौशल्या मंदिर (Kaushalya Temple) के मूल स्वरूप को यथावत रखते हुए, पूरे परिसर के सौंदर्यीकरण की रूपरेखा तैयार कर ली गई है. मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी राम वन गमन पथ विकास परियोजना (Ram Van Gaman Path Project) में शामिल चंदखुरी में यह पूरा कार्य 15 करोड़ 75 लाख रुपए की लागत से किया जाएगा.

योजना के मुताबिक, चंदखुरी में मंदिर के सौंदर्यीकरण तथा परिसर विकास का कार्य दो चरणों में पूरा किया जाएगा. पहले चरण में 6 करोड़ 70 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे, जबकि दूसरे चरण में 9 करोड़ 8 लाख रुपए खर्च होंगे. योजना के मुताबिक चंदखुरी को पर्यटन-तीर्थस्थल के रूप में विकसित किया जाना है. इसलिए वहां स्थित प्राचीन कौशल्या माता मंदिर के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ नागरिक सुविधाओं का विकास भी किया जाएगा.

तालाब का सौंदर्यीकरण करते हुए मध्य में स्थित मंदिर के टापू को और भी आकर्षक तथा सुव्यवस्थित किया जाएगा. पौराणिक कथाओं से चंदखुरी के संबंध के अनुरूप पूरे परिसर के वास्तु को डिजाइन किया गया है. तालाब मंदिर तक पहुंचने के लिए तालाब में नए डिजाइन का पुल तैयार किया जाएगा. तालाब में घाटों और चारों और परिक्रमा-पथ का निर्माण किया जाएगा. दर्शनार्थियों के वाहनों के लिए पार्किंग सुविधा भी विकसित की जा रही है. इस पूरे परिसर में आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की जाएगी.



22 दिसंबर को भूमि-पूजन किया गया था
पिछले साल 22 दिसंबर को चंदखुरी स्थित माता कौशल्या मंदिर के सौंदर्यीकरण के लिए भूमि-पूजन किया गया था. इसके साथ ही राम वन गमन पथ पर पड़ने वाले महत्वपूर्ण स्थलों के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की परियोजना की भी शुरुआत कर दी गई थी. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने 29 जुलाई को अपनी पत्नी मुक्तेश्वरी बघेल और परिवार के सदस्यों के साथ चंदखुरी पहुंचकर प्राचीन मंदिर में पूजा-अर्चना की थी. इस दौरान उन्होंने मंदिर के विस्तार और परिसर के सौंदर्यीकरण के लिए तैयार परियोजना की जानकारी ली थी. बघेल ने निर्देश दिया था कि मंदिर के मूल स्वरूप को यथावत रखते हुए यहां आनेवाले श्रद्धालुओं का विशेष रूप से ध्यान रखा जाए. मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर मंदिर के पास से बाईपास सड़क निर्माण की भी स्वीकृति प्रदान की है. साथ ही चंदखुरी में राष्ट्रीय बैंक की शाखा खोलने का निर्देश भी दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading