लाइव टीवी

छत्तीसगढ़ में हताश कांग्रेस के लिए संजीवनी बने भूपेश बघेल होंगे नए मुख्यमंत्री- जानें खास बातें
Raipur News in Hindi

निलेश त्रिपाठी | News18Hindi
Updated: December 16, 2018, 1:44 PM IST
छत्तीसगढ़ में हताश कांग्रेस के लिए संजीवनी बने भूपेश बघेल होंगे नए मुख्यमंत्री- जानें खास बातें
भूपेश बघेल.

छत्तीसगढ़ में पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल 2013 में हार की हैट्रिक से मुरक्षित हो चुकी कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित हुए. यहां पढ़ें, भूपेश बघेल के बारे वो सबकुछ जो आप जानना चाहते हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2018, 1:44 PM IST
  • Share this:
छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री होंगे. चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद काफी मंथन आला कमान ने किया. इसके बाद भूपेश बघेल के नाम का ऐलान कर दिया गया.

(ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री होंगे भूपेश बघेल, 17 दिसंबर को लेंगे शपथ)

छत्तीसगढ़ में पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल 2013 में हार की हैट्रिक से हताश हो चुकी कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित हुए. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 के परिणाम ने इनका कद राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ा दिया है. प्रदेश में कमजोर लग रही कांग्रेस के 90 में 68 सीटें जीतने के बाद सीएम पद के दावेदारों में भूपेश बघेल का नाम आगे थे. आइए एक नजर डालते हैं बघेल के अब तक के सामाजिक और राजनीतिक सफर पर.



भूपेश बघेल का जन्म 23 अगस्त 1961 को दुर्ग जिले के पाटन तहसील में हुआ था. कुर्मी समाज में इनका खासा जनाधार देखने को मिलता है. तेज तर्रार राजनीति और बेबाक अंदाज के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल जाने जाते हैं. किसानों के मुद्दों पर आक्रामक कौशल के लिए वे काफी फेमस भी हैं.



ये भी पढ़ें: कौन बनेगा छत्‍तीसगढ़ का CM: कांग्रेस लगाएगी OBC पर दांव, ये 3 चेहरे सबसे आगे

साल 1985 में उन्होंने यूथ कांग्रेस ज्वॉइन किया. 1993 में जब मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए तो पहली बार पाटन विधानसभा से वे विधायक चुने गए. इसके बाद अगला चुनाव भी वे पाटन से ही जीते, जिसमें उन्होने बीजेपी के निरुपमा चंद्राकर को हराया.

ये भी पढ़ें: OPINION: छत्तीसगढ़- सीएम जमीन से तय होगा या आसमान से

जब मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह की सरकार बनी, तो भूपेश बघेल कैबिनेट मंत्री बने. साल 1990-94 तक जिला युवा कांग्रेस कमेटी दुर्ग (ग्रामीण) के वे अध्यक्ष रहे. 1994-95 में मध्य प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष चुने गए. साल 1999 में मध्य प्रदेश सरकार में परिवहन मंत्री और साल 1993 से 2001 तक मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड के डायरेक्टर की जिम्मेदारी भूपेश बघेल ने संभाली.

ये भी पढ़ें: Chhattisgarh Election Result 2018: कांग्रेस में सीएम पद के इतने दावेदार, सरकार बनी तो किसके सिर होगा ताज?

साल 2000 में जब छत्तीसगढ़ राज्य बना और कांग्रेस की सरकार बनी तब जोगी सरकार में वे कैबिनेट मंत्री रहे. 2003 में कांग्रेस जब सत्ता से बाहर हुई तो भूपेश को विपक्ष का उपनेता बनाया गया. साल 2003 में हुए विधानसभा चुनाव में पाटन से उन्होने जीत दर्ज की. 2008 में बीजेपी के विजय बघेल से भूपेश चुनाव हार गए. फिर साल 2013 में पाटन से उन्होने जीत दर्ज की. 2014 में उन्हें छत्तीसगढ़ कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया.

इस तरह बने कांग्रेस के लिए संजीवनी
तेज़तर्रार और आक्रामक छवि वाले नेता भूपेश बघेल को दिसंबर, 2013 में कांग्रेस आलाकमान ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया. इस समय विधानसभा चुनाव में लगातार तीसरी हार के बाद कांग्रेसी कार्यकर्ता हताश और निराश थे. इसके बाद भूपेश बघेल ने सरकार के खिलाफ लगातार मोर्चा खोलकर कार्यकर्ताओं को रिचार्ज करने का काम किया. फिर राशन कार्ड में कटौती का मुद्दा हो या किसानों की धान खरीदी और बोनस का मुद्दा, वह नसबंदी कांड का विरोध हो या फिर चिटफंड कंपनियों के पीड़ितों के साथ खड़े होने का मामला, भूपेश ने कांग्रेस को सरकार के खिलाफ सड़क पर उतार दिया.कथित भ्रष्टाचार के मामले एक के बाद एक उजागर किए, जिस तरह से उन्होंने शक्तिशाली नौकरशाहों को खुले आम चुनौती दी उससे राज्य में कांग्रेस की छवि बदली. हालांकि इस बीच जमीन घोटाले, एक मंत्री के सेक्स सीडी कांड को लेकर भूपेश सरकार के निशाने पर भी रहे.

ये भी पढ़ें: OPINION: 15 साल से राज कर रही BJP को कैसे भूपेश बघेल ने 15 सीट पर समेट दिया

जोगी के खिलाफ कार्रवाई
अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी की ख़रीद फ़रोख़्त के मामले में जिस तरह से उन्होंने अपनी ही पार्टी के कद्दावर नेता अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी को घेरा और फिर अमित जोगी को पार्टी से निष्कासित किया उसके बाद प्रदेश में यह धारणा बन गई कि भूपेश बघेल 'हिम्मत वाले' नेता तो हैं. क्योंकि पहले कांग्रेस में दो गुट काम करते थे एक संगठन कांग्रेस और दूसरा जोगी कांग्रेस. कांग्रेस के दिग्गज नेता भी जोगी के खिलाफ खुलकर नहीं बोलते थे.

छत्तीसगढ़ की ताजा अपडेट्स के लिए देखते रहिए- LIVE TV.


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 16, 2018, 12:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading