सावधान! कहीं आप भी न खरीद लें आइल पेंट से रंगी मिठाई

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 13, 2017, 11:24 PM IST
सावधान! कहीं आप भी न खरीद लें आइल पेंट से रंगी मिठाई
दिवाली के मद्देनजर बाजार में सज गई हैं मिठाइयां.
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: October 13, 2017, 11:24 PM IST
छत्‍तीसगढ़ के खाद्य विभाग ने दीपावली के त्‍योहार पर मिठाइयां खरीदते समय लोगों को सतर्कता बरतने के लिए कहा है. विभागीय अधिकारियों का कहना है कि खतरनाक रंग, केमिकल्‍स और हेवी मेटल्‍स वाली मिठाइयां जानलेवा भी हो सकती हैं.

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि दीपावली के त्योहार के समय लोगों की डिमांड को देखते हुए बड़ी मात्रा में मिठाइयां तैयार की जाती हैं. इनमें से कई मिठाइयों में रंगों और खतरनाक केमिकल्स का भी इस्तेमाल किया जाता है. मिठाइयों को आकर्षक बनाने के लिए हेवी मेटल्स के साथ-साथ घरों की पुताई में काम आने वाले ऑइल पेंट का भी इस्तेमाल किया जाता है. यह आपके लिवर को तो खराब कर ही सकता है, वहीं ज्यादा समय तक इस्तमाल जानलेवा भी हो सकता है.

खाद्य एवं औषधि विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर डॉ. अश्विनी देवांगन ने बताया कि उनके विभाग ने गणेश चतुर्थी और नवरात्रि से लेकर अब तक हर जिले से रोज 15 से 20 सैंपल अलग-अलग चीजों के लिए हैं. इनमें से कई फेल भी हुए हैं, जिस पर जल्द ही कार्रवाई संभव है. हालांकि खाद्य विभाग पर पहले भी आरोप लगते रहे हैं कि वह केवल खानापूर्ति करता है, वहीं खाद्य विभाग के अफसर कर्मचारियों की कमी को एक बड़ी वजह बताते हैं.

वहीं राजधानी रायपुर के बड़े मिठाई विक्रेताओं का दावा है कि वे मिठाइयों में रंगों और बाहर के खोवे का इस्तेमाल अब नहीं करते हैं. लोग भी अब खोवे की मिठाइयों के बदले दूसरी तरह की मिठाइयां लेना ज्यादा पसंद करते हैं. यदि लोगों को ताजा मिठाइयां चाहिए तो उन्हें ज्यादा खर्च करने के लिए भी तैयार रहना चाहिए. यदि वो छोटी दुकानों से सस्ती मिठाइयां लेंगे तो उनकी मुश्किलें बढ़ ही सकती हैं.

आम लोगों का कहना है कि व्यस्त समय में तैयार मिठाइयां खरीदना उनकी मजबूरी है. शुद्धता की जांच के लिए उनके पास कोई पैमाना नहीं है. ऐसे में वो लंबे समय से जिन दुकानों से मिठाई लेते हैं, उन पर भरोसा करते हैं. ऐसे में खाद्य विभाग की जिम्मेदारी बनती है कि वो अपना काम ठीक से करे.

(ममता लांजेवार की रिपोर्ट)

First published: October 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर