छत्तीसगढ़ में अनलॉक के साथ ही खुल गई शराब की दुकानें, भाजपा-कांग्रेस में वाकयुद्ध

छत्तीसगढ़: अनलॉक के साथ खुल गईं शराब की दुकानें, ठेकों पर लगने लगी शौकीनों की कतारें.

छत्तीसगढ़: अनलॉक के साथ खुल गईं शराब की दुकानें, ठेकों पर लगने लगी शौकीनों की कतारें.

छत्तीसगढ़ में 9 अप्रैल से बंद विदेशी शराब की दुकानें शुक्रवार से खुल गईं हैं. दुकानें खुलने के बाद पहले दिन शराब की दुकानों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराने के लिए अलग तरह से व्यवस्था की गई, जिसमें ऑनलाइन ऑर्डर कर काउंटर से शराब लेने और कैश देकर शराब खरीदने वालों की अलग-अलग कतारें बनाई गईं.

  • Share this:

रायपुर. छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh) में 9 अप्रैल से बंद विदेशी शराब की दुकानें शुक्रवार से खुल गईं हैं. दुकानें खुलने के बाद पहले दिन शराब की दुकानों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराने के लिए अलग तरह से व्यवस्था की गई, जिसमें ऑनलाइन ऑर्डर कर काउंटर से शराब लेने और कैश देकर शराब खरीदने वालों की अलग-अलग कतारें बनाई गईं. साथ ही दुकानों के बाहर सेनिटाइजर की भी व्यवस्था पहले दिन दिखाई दी. छत्तीसगढ़ में शराब बेचने को लेकर एक के बाद एक अलग-अलग फैसले लिये जा रहे हैं, जिसके बाद इसे लेकर सियासत भी जारी है.

प्रदेश में 25 मई से देशी शराब की दुकानें खोली गई थीं, जबकि विदेशी शराब की बिक्री ऑनलाइन ही चल रही थी, लेकिन कोरोना संक्रमण कम होने के बाद अब विदेशी शराब दुकानों को भी खोल दिया गया है. आबकारी आयुक्त निरंजन दास ने न्यूज 18 को बताया कि कोरोना संक्रमण की दर कम होने के बाद विदेशी शराब दुकानों को भी खोलने का फैसला लिया गया है. दुकानों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए भी निर्देश दिये गये हैं. निरंजन दास ने बताया कि ऑनलाइन शराब की बिक्री पहले की ही तरह जारी रहेगी, जबकि काउंटर में कैश देकर भी शराब खरीदी जा सकेगी. पहले शराब बेचने की ऑनलाइन व्यवस्था, फिर देशी शराब की दुकानें खोलने के निर्देश और अब विदेशी दुकानों को अनलॉक किये जाने पर रायपुर सांसद सुनील सोनी ने कांग्रेस सरकार को आड़े हाथों लिया है.

सोनी ने कहा कि सरकार को मदिरालय से ज्यादा प्रेम है, शिवालय के पट नहीं खुल रहे हैं. सुनील सोनी का कहना है कि पिछले लॉकडाउन में भी शराब दुकानें खोली गई थीं. ऐसे कठिन समय में धीरे-धीरे फैसले लेने चाहिए न कि शराब दुकानें खोलकर तीसरी लहर की तरफ धकेलना चाहिए. वहीं कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला का कहना है कि ये सामान्य प्रशासनिक प्रक्रिया है, जब अनलॉक में सब कुछ खुल रहा है तब शराब दुकानें भी खोली गई हैं, लेकिन बीजेपी को भी इसमें दिक्कत है. शुक्ला ने कहा कि देश में बीजेपी शासित 18 में से 16 राज्यों में शराब दुकानें खुल गई हैं और जब छत्तीसगढ़ में शराब दुकानों को खोला जा रहा है तो दिक्कत क्यों हो रही है ?

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज