विधानसभा चुनाव: हारे हुए चेहरों पर फिर दांव खेल रही है बीजेपी!
Raipur News in Hindi

विधानसभा चुनाव: हारे हुए चेहरों पर फिर दांव खेल रही है बीजेपी!
सीएम डॉ.रमन सिंह

पिछले विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बावजूद भाजपा ने फिर से हारे हुए 15 चेहरों पर अपना भरोसा जताया है,लेकिन सवाल यही है कि क्या हारे हुए प्रत्याशी, चौथी बार पार्टी की नैय्या पार लगा पाएंगे.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी प्रत्याशियों की जारी की गयी लिस्ट से हर कोई हैरान है. क्योंकि जिस तरह से प्रत्याशी चयन को लेकर राष्ट्रीय स्तर के नेता मंथन में जुटे थे उससे ऐसा लग रहा था कि पार्टी इस बार ज्यादातर सीटों पर नए चेहरों पर दांव लगाने के मूड में है. लेकिन ठीक इसके विपरीत बीजेपी ने टिकट वितरण में इस बार चौंकाया और ज्यादातर सीटों पर उन्ही चेहरों पर दांव लगाया है जिन्हे पिछली बार हार का सामना करना पड़ा था. इस लिस्ट में पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर, पूर्व महिला बाल विकास मंत्री लता उसेंडी, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री कृष्णमूर्ति बांधी और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक के भी नाम शामिल हैं जिन्हे पिछले चुनाव में करारी शिकस्त मिली थी.

इन हारे हुए प्रत्याशियों को मिली टिकट:

विधानसभा सीट                                           प्रत्याशी                                    पिछली बार हार का अंतर

भठगांव -                                                रजनी त्रिपाठी                                    7368 वोट



सामरी -                                                  सिद्धनाथ पैकरा                                 31832 वोट


लुंड्रा -                                                   विजयनाथ सिंह                                    9946 वोट
अंबिकापुर -                                          अनुराग सिंहदेव                                    19558 वोट
रामपुर -                                               ननकीराम कंवर                                   9915 वोट
बिल्हा -                                               धरमलाल कौशिक                                 10968 वोट
मस्तूरी -                                              डॉ कृष्णमूर्ति बांधी                                   24146 वोट
जांजगीर- चांपा -                                  नारायण चंदेल                                        10211 वोट
रायपुर ग्रामीण -                                  नंदे साहू                                                 1861 वोट
अभनपुर -                                        चंद्रशेखर साहू                                         8354 वोट
खैरागढ़ -                                         कोमल जंघेल                                           2190 वोट
बस्तर -                                          डॉ सुभाऊ कश्यप                                     19168 वोट
कोंडागांव -                                      लता उसेंडी                                              5135 वोट
दंतेवाड़ा -                                        भीमा मंडावी                                            5987 वोट
कोंटा -                                         धनीराम बारसे                                               5786 वोट


बीजेपी की लिस्ट आने के बाद सियासी गलियों में यही चर्चा है कि कुछ जगहों पर पार्टी ने उनकी सक्रियता को लेकर टिकट दिया है तो कई जगहों पर बीजेपी बेहतर विकल्प नहीं तलाश पायी. वहीं कुछ सीटों पर तो वहां के प्रत्याशी भी कांफिडेंट नहीं थे कि उन्हे इस बार टिकट मिल पायेगी. लेकिन टिकिट वितरण से नाखुश कार्यकर्ताओं ने बगावती तेवर दिखाने शुरू कर दिये है, जिससे कांग्रेस को फिर एक बार मौका मिल गया है. कांग्रेस प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी का कहना है कि हारे हुए प्रत्याशियों को भाजपा ने टिकट दिया है. जनता ने जिसे एक बार नकार दिया है उसका फिर से जीत पाना मुश्किल है.

ये भी पढ़ें: VIDEO: चुनाव के मद्देनजर पुलिस ने तेज की चेकिंग, अब तक मिले 25 लाख रुपए

हालांकि हारे हुए प्रत्याशियों को दुबारा मौका देने की बात पर मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह चुनाव में जीत-हार लगे रहने की बात कह रहे है. सीएम का कहना है कि जरूरी नहीं कि एक बार हारने के बाद कोई जीत नहीं सकता.

ये भी पढ़ें: कद्दावर आदिवासी नेता गणेशराम भगत का निष्कासन बीजेपी ने लिया वापस

सीएम के इस बयान से यही लगता है कि शायद बीजेपी को इस बार भी अपने चुनावी मैनेजमेंट पर पूरा भरोसा है. इसलिए हारे हुए प्रत्याशियों को दोबारा मौका दिया गया है. लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि हारे हुए प्रत्याशियों को जीतने लिए हार के अंतर की खाई पाटनी होगी जो प्रत्याशियों के साथ ही साथ पार्टी के लिए भी बड़ी चुनौति होगी.

ये भी पढ़ें: अमृतसर हादसे के बाद रेलवे का फैसला, रायपुर के WRS कॉलोनी में अब नहीं होगा रावण दहन 

 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading