छत्तीसगढ़ चुनाव: भाजपा आज खोलेगी वादों का पिटारा, अमित शाह जारी करेंगे संकल्प पत्र

भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह

भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह

छत्तीसगढ़ में दो चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं. पहले चरण में 12 नवंबर और दूसरे चरण में 20 नवंबर को मतदान होंगे. इसके बाद 11 दिसंबर को मतगणना होगी. छत्तीसगढ़ में सत्ता की चौथी पारी खेलने के लिए भाजपा अपने वादों का पिटारा खोलेगी.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा जनता के लिए वादों का पिटारा खोलने जा रही है. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह चुनावी भाजपा का संकल्प पत्र जारी करेंगे. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह विशेष विमान से शनिवार सुबह रायपुर पहुंचेंगे. भाजपा के संकल्घोप पत्र में किसान, आदिवासी, युवा और महिलाओं पर फोकस करने की उम्मीद है. पहले चरण के चुनाव के एक दिन पहले बीजेपी अपनी घोषणा पत्र जारी करेगी.



ये भी पढ़ें: Exclusive: लालगढ़ में मतदाताओं को सुरक्षा देने के लिए इन चुनौतियों का सामना कर रही है फोर्स 



बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह रायपुर के एक निजी होटल में भाजपा का इस साल का घोषणा पत्र जारी करेंगे. पहले बीजेपी 4 नवंबर को घोषणा पत्र जारी करने वाली थी. फिर बीजेपी ने अपनी रणनीति बदले हुए दीवाली के बाद चुनावी घोषणा पत्र जारी करने का फैसला किया गया है. बीजेपी पूरे प्रदेश में कमल दिवाली मना रही थी इसलिए घोषणा पत्र जारी करने की तारीख को आगे बढ़ाया गया. बीजेपी के घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष बृजमोहन अग्रवाल का कहना है कि इस बार भी घोषणा पत्र में सभी वर्ग के हितों का ध्यान रखा गया है.





ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ चुनाव: बस्तर के रण से पीएम मोदी ने भरी हुंकार, भाषण की 7 बड़ी बातें 
बीजेपी भले ही अपने इस बार के घोषणा पत्र में सभी वर्गों को साधने की बात कह रहीं है, वहीं समाज के कई वर्गों में खास तौर पर कर्मचारी संघ में पिछले बार की घोषणाओं के पूरा नहीं होने पर जमकर गुस्सा है. जाहिर तौर पर बीजेपी के लिए इस बार का घोषणा पत्र जारी करना किसी चुनौती से कम नहीं है. बता दें कि छत्तीसगढ़ में दो चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं. पहले चरण में 12 नवंबर और दूसरे चरण में 20 नवंबर को मतदान होंगे. इसके बाद 11 दिसंबर को मतगणना होगी. छत्तीसगढ़ में सत्ता की चौथी पारी खेलने के लिए भाजपा अपने वादों का पिटारा खोलेगी.



ये भी पढ़ें: नक्सली हमलों के बीच बस्तर में मतदान कराना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज