BJP ने तैयार की नई रणनीति, सदस्यता अभियान के जरिए इस खास वर्ग को साधने की कोशिश

छत्तीसगढ़ में बीजेपी के सदस्यता अभियान के जरिए बड़ी संख्या में अल्पसंख्यकों ने पार्टी की सदस्यता ली है.

Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: July 8, 2019, 10:54 AM IST
BJP ने तैयार की नई रणनीति, सदस्यता अभियान के जरिए इस खास वर्ग को साधने की कोशिश
कांग्रेस ने बीजेपी के सदस्यता अभियान को फर्जी कहा है.
Devwrat Bhagat
Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: July 8, 2019, 10:54 AM IST
लोकसभा चुनाव में जीत से उत्साहित बीजेपी ने सदस्यता अभियान की शुरूआत कर दी है. अभियान की शुरूआत में ही बीजेपी की बदलती तस्वीर नज़र आई,जिसमें पार्टी की सदस्यता लेने के लिए इस बार बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाएं मौजूद रही. छत्तीसगढ़ में बीजेपी के सदस्यता अभियान के जरिए बड़ी संख्या में अल्पसंख्यकों ने पार्टी की सदस्यता ली है. लेकिन बड़ी संख्या में मुस्लिम महिलाओं की मौजूदगी ने हर किसी को हैरत में डाला. बताया जा रहा है कि अभियान से पहले ही बीजेपी ने खासतौर पर मुस्लिम महिलाओं की ओर ध्यान केन्द्रीत करने की रणनीति बनाई थी, जिसके जरिए प्रदेश की मुस्लिम महिलाओं को ये भरोसा दिया गया कि उनकी हितचिंतक सिर्फ और सिर्फ बीजेपी ही है. बीजेपी की सदस्यता लेने वाली शबनम बेगम का कहना है कि उन्हे बीजेपी की सदस्यता के लिए किसी ने मजबूर नहीं किया बल्कि ये फैसला उन्होने खुद से लिया है.

अल्पसंख्य मोर्चा ने कही ये बात

बीजेपी अल्पसंख्य मोर्चा के उपाध्यक्ष सैय्यद रज़ा का कहना है कि बीजेपी मुस्लिमों के लिए कभी अलग नहीं रही और इसलिए उन्होने समाज के लोगों को पार्टी से जोड़ा है और बड़ी संख्या में खुद लोग अब बीजेपी से जुड़ रहे हैं. वहीं तीन तलाक जैसे मुद्दे भी मुस्लिम महिलाओं को बीजेपी के करीब लाने में काफी मददगार साबित हुआ है.

नेता प्रतिपक्ष का कहना है कि

इधर नेता प्रतिपक्ष धऱमलाल कौशिक का कहना है कि समाज के हर वर्ग को जोड़ने की कवायद बीजेपी की है. मुस्लिम महिलाओं के बीजेपी में जुड़ने की वजह तीन तलाक का मुद्दा तो रहा ही है. साथ ही जिस तरह से केन्द्र सरकार ने अल्पसंख्यकों के विकास पर ध्यान दिया है उसी वजह से अल्पसंख्यक वर्ग बीजेपी से जुड़ रहा है.

कांग्रेस ने बताया फर्जी

छत्तीसगढ़ में मुस्लिमों की आबादी महज़ 2.1 प्रतिशत है लेकिन इनमें से ज्यादातर आबादी शहरी क्षेत्रों की है. ऐसे में आगामी निकाय चुनावों में सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है. हांलाकि सदस्यता अभियान के दौरान नज़र आई तस्वीरों को देखने के बाद भी कांग्रेस बीजेपी के सदस्यता अभियान से कुछ खात इत्तेफाक नहीं रखा है. पीसीसी संचार प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि ने बीजेपी के सदस्यता अभियान को ही फर्जी करार दिया है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

कांकेर में तेज रफ्तार बस ने राह चलते पुलिस जवान को रौंदा, मौत

बैगा आदिवासियों की पिटाई के मामले ने पकड़ा तूल, वन विभाग पर कार्रवाई की मांग 

 
First published: July 8, 2019, 10:06 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...