लाइव टीवी

CAA बवाल: सरोज पाण्डेय ने कहा- विरोध करने से पहले कांग्रेस ले कपिल सिब्बल से सलाह
Raipur News in Hindi

Mamta Lanjewar | News18 Chhattisgarh
Updated: January 30, 2020, 6:34 PM IST
CAA बवाल: सरोज पाण्डेय ने कहा- विरोध करने से पहले कांग्रेस ले कपिल सिब्बल से सलाह
ट्वीट के जरिए सरोज पाण्डेय ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. (File Photo)

मालूम हो कि गुरुवार को भूपेश बघेल कैबिनेट की बैठक में सीएए के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया गया है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh)  में हो रहे सीएए-एनआरसी (CAA-NRC) पर विवाद के बीच एक ट्वीट ने राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज कर दी है. बीजेपी की राष्ट्रीय महासचिव सरोज पाण्डेय (Saroj Pandey) ने सीएए को लेकर एक ट्वीट किया है. मालूम हो कि सीएए के खिलाफ कैबिनेट में एक प्रस्ताव पारित होने पर सरोज पाण्डेय ने ट्वीट किया है. ट्वीट में राज्य की भूपेश बघेल सरकार पर निशाना सरोज पाण्डेय ने साधा है. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) सरकार ने कैबिनेट में सीएए के विरोध में प्रस्ताव पास किया. आपकी पार्टी के नेता कपिल सिब्बल ने कहा था कि कोई भी राज्य सीएए को लागू करने से मना नहीं कर सकता है. इसे लागू करने से इनकार करना अंवैधानिक होगा, आपको इसका विरोध करने से पहले उनसे सलाह लेनी थी.

कैबिनेट में पास हुआ था प्रस्ताव  

मालूम हो कि गुरुवार को भूपेश बघेल कैबिनेट की बैठक में सीएए के खिलाफ एक प्रस्ताव पारित किया गया है. साथ ही सीएम भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखकर नागरिकता संशोधान अधिनियम 2019 (सीएए) को वापस लेने का अनुरोध भी किया है. सीएम बघेल ने अपने खत में लिखा है कि जहां एक ओर इस अधिनियम का वर्तमान संशोधन धर्म के आधार पर अवैध प्रवासियों को अलग करता प्रतीत होता है एवं भारतीय संविधान के अनुच्छेद-14 के विपरीत होने का संकेत दे रहा है. वहीं दूसरी ओर भारत के पड़ोसी देशों, जैसे- श्रीलंका, म्यांमार, नेपाल और भूटान इत्यादि देशों से आने वाले प्रवासियों के संबंध में इस अधिनियम में कोई भी प्रावधान नहीं किया गया है.

सीएम बघेल ने पत्र में कहा है कि छत्तीसगढ़ राज्य में इस अधिनियम के खिलाफ काफी विरोध प्रदर्शन देखे गए, जो कि शांतिपूर्ण रहे है. छत्तीसगढ़ में कई अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़े वर्ग के निवासी हैं, जिनमें से बड़ी संख्या में गरीब, अशिक्षित एवं साधनविहीन हैं, जिसे इस अधिनियम की औपचारिकता को पूरा करने में काफी परेशानियां हो सकती है.

ये भी पढ़ें: 

पंचायत चुनाव: दूसरे चरण में 23013 पदों के लिए होगा मतदान, 30 लाख से ज्यादा मतदाता करेंगे वोट 

 

तेजधार हथियार से युवक की हत्या, सड़क किनारे शव फेंक भागे नक्सली 



35 दिनों से लापता है 9 साल का बच्चा, अब तक पुलिस को नहीं मिला कोई सुराग  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 6:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर