• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Chhattisgarh Congress: 10 जिलों में तय किये किसानों के नेता, पढ़ें किस किसको मिली जिम्मेदारी

Chhattisgarh Congress: 10 जिलों में तय किये किसानों के नेता, पढ़ें किस किसको मिली जिम्मेदारी

छत्तीसगढ़ किसान कांग्रेस में जिलाध्यक्षों की नियुक्ति की गई है.

छत्तीसगढ़ किसान कांग्रेस में जिलाध्यक्षों की नियुक्ति की गई है.

CG News: छत्तीसगढ़ (Chhttisgarh) प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने 10 जिलों में किसान कांग्रेस (Kisan Congress) जिलाध्यक्षों की नियुक्ति की है. बताया जा रहा है कि सरकार की किसानों के लिए लागू की गई योजनाओं की जानकारी और उनके प्रचार प्रसार की विशेष जिम्मेदारी इनको दी गई है.

  • Share this:

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की कांग्रेस सरकार (Congress Government) में मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर चल रही खींचतान के बीच पार्टी ने संगठन स्तर पर नए सिरे से नियुक्तियां शुरू कर दी हैं. इसके तहत राज्य के दस जिलों में किसान कांग्रेस (Kisan Congress) के नेतृत्वकर्ताओं की सूची जारी कर दी गई है. बताया जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीएल और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) के निर्देश पर सूची जारी की गई है. इसमें रायपुर, दुर्ग, भिलाई और बिलासपुर समेत 10 जिलों में किसान कांग्रेस के जिलाध्यक्षों के नाम हैं.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने यह सूची जारी की है. इसमें रायपुर ग्रामीण की जिम्मेदारी रूपेश बघेल, दुर्ग में पुकेश चंद्राकर, धमतरी में चन्द्रहास साहू, भिलाई में हरिओम सोनी, बिलासपुर में संदीप शुक्ला कोटा व गौरेला पेन्ड्रा-मरवाही में अवधेश गुर्जर को किसान कांग्रेस का जिला अध्यक्ष बनाया गया है. इसके अलावा गरियाबंद में मनोज मिश्रा मैनपुर, रायगढ़ में राजा शर्मा घरघोड़ा, राजनांदगांव में मदन साहू, बलौदाबाजार भाठापारा में डॉ. गोपाल साहू को जिला अध्यक्ष बनाया गया है. इसके साथ ही 2 प्रदेश संयोजक, 2 प्रदेश उपाध्यक्ष व 3 महामंत्रियों की भी नियुक्ति की गई है.

सरकार का किसानों पर फोकस का दावा
बता दें कि छत्तीसगढ़ में सत्ता में आने के बाद से ही कांग्रेस गांव और किसान पर फोकस करने का दावा करती रही है. इतना ही नहीं किसान के बेटे भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाने के बाद से कांग्रेस प्रदेश में किसानों की सरकार होने का नारा भी देती रही है. किसानों की कर्ज माफी और धान का समर्थन मूल्य 2500 रुपये प्रति क्विंटल करने का निर्णय भी कांग्रेस सरकार बनने के बाद लिया गया. ऐसे में राज्य के किसानों को साधने की पूरी कवायद कांग्रेस द्वारा की जा रही है. इसके तहत ही अब किसान नेताओं की नियुक्ति कर उनके इलाकों में राज्य सरकार की योजनाओं का प्रचार प्रसार तेज करने की कवायद की जाएगी. बताया जा हा है कि क्षेत्र के किसानों को बड़ी संख्या में कांग्रेस से जोड़ने की जिम्मेदारी भी किसान नेताओं को दी गई है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज