• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Chhattisgarh Politics: दिल्ली से लौटे विधायक, क्या छत्तीसगढ़ कांग्रेस में अब ऑल इज वेल है?

Chhattisgarh Politics: दिल्ली से लौटे विधायक, क्या छत्तीसगढ़ कांग्रेस में अब ऑल इज वेल है?

छत्तीसगढ़ से दिल्ली गए करीब तीन दर्जन विधायक वापस लौट आए हैं. क्या अब सियासी तूफान शांत हो जाएगा?

छत्तीसगढ़ से दिल्ली गए करीब तीन दर्जन विधायक वापस लौट आए हैं. क्या अब सियासी तूफान शांत हो जाएगा?

Chhattisgarh Politics: छत्तीसगढ़ से दिल्ली गए विधायक आखिरकार रायपुर लौट आ गए हैं. करीब तीन दर्जन विधायक राजधानी रायपुर पहुंचे. रायपुर एयरपोर्ट पहुंचते ही पहले तो विधायकों ने मीडिया से बचने की कोशिश की. बाद में कहा कि ऑल इज वेल.

  • Share this:

रायपुर. क्या छत्तीसगढ़ कांग्रेस में क्या वाकई ऑल इज वेल हो चुका है. जी हां! दिल्ली गए विधायक लौटने के बाद तो यही कह रहे हैं. वहीं सभी विधायक  अपने अपने निजी काम से जाने की बात कह रहे थे. वहीं सबके निजी काम अलग-अलग थे और समाधान वो एक ही लेकर लौटे हैं. जी हां! छत्तीसगढ़ से दिल्ली गए विधायक आखिरकार रायपुर लौट आ गए हैं. करीब तीन दर्जन विधायक राजधानी रायपुर पहुंचे. रायपुर एयरपोर्ट पहुंचते ही पहले तो विधायकों ने मीडिया से बचने की कोशिश की. बाद में कहा कि ऑल इज वेल.

न्यूज 18 से खास बातचीत में विधायकों ने कहा कि जिस मकसद से हम गए थे. वह पूरा हो गया. वहीं जब यह पूछा गया कि मकसद क्या था तो कुछ विधायकों ने कहा कि जो बदलाव की बात कही जा रही थी, वह नहीं होगी. गुरुदयाल सिंह बंजारे ने कहा कि घरेलू काम से गया था, फिर एक साथ कैसे मिले. इस पर कहा कि मिल लिए. उन्होंने कहा कि बदलाव जैसे कोई बात नहीं है. मुख्यमंत्री पहले से स्पष्ट कर चुके हैं और जो भी आए थे. हमारी मंशा है कि जो अभी हैं वही रहे. उन्होंने कहा कि किसी आलाकमान से मुलाकात नहीं की. नहीं किसी से बातचीत नहीं की और नहीं समय मांगा था.

धरमजय गंढ़ विधायक लालजीत राठिया ने कहा कि भूपेश बघेल के समर्थन के लिए गए थे. विधायक विनय जायसवाल ने कहा कि जब दस बारह विधायक जूटे थे तो सामान्य चर्चा को भी बैठक कहते हैं. इसके बाद उन्होंने कहा कि ऑल इज वेल. वहीं विधायक लक्ष्मी ध्रुव ने कहा कि ऑल इज वेल. वहीं विधायक शिशुपाल सिंह सोरी ने  विक्ट्री का निशान बनाते हुए कहा कि सब ठीक है. जब उनसे इसका मतलब पूछा गया तो बोले इशारों को समझिए. अनीता शर्मा ने कहा कि व्यक्तिगत काम घूमने गई थीं. रावतपुरा सरकार के यहां भी गई थीं.

वहीं विनोद सेवनलाल चंद्राकर ने कहा कि सब ठीक है और जिस तरह से कहा जा रहा था कि सात तारीख को मुख्यमंत्री बदलने वाला है, ऐसा कुछ नहीं है. यह मीडिया और बीजेपी की देन थी. उन्होंने कहा कि मैं तो वैष्णव देवी गया था. वहीं संतराम नेताम ने कहा कि निजी काम से गए थे. हमारे और विधायक साथी भी मिले. हमारे प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया जी से मिलने की भी कोशिश किए लेकिन नहीं मिल पाए. क्यों मिलना चाहते थे? इस पर कहा कि राहुल गांधी को अपने क्षेत्र में और जिलों में बुलाने गए थे.

विकास उपाध्याय ने कहा कि मैं तो पहले भी दिल्ली गया था. विधायक देवेन्द्र यादव ने कहा कि मैं यूथ कांग्रेस के आगामी काम के लिए गया था. जितने भी विधायक साथी वहां थे इसलिए मिलने गया था. उन्होंने कहा कि जब ऐसी कोई बात संगठन में कोई बात रखनी होगी दिल्ली जाएंगे. ऐसी क्या बात थी कि मोहन मरकाम सक्षम नहीं थे जो दिल्ली जाना पड़ा तो उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी पूरी तरह से सक्षम है.

विधायक रामकुमार यादव ने दिल्ली जाते समय कहा था कि पीएम मोदी से मिलने जा रहे हैं. अभी कहा कि पीएम मोदी से डीजल-पेट्रोल के दाम कम करने के लिए कहने गया था. हम सारे 70 विधायक एक हैं. लालजीत राठिया ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के समर्थन में गए थे. हम महाकाल के दर्शन करने गए थे. एक पंथ दो काज था. वहीं उन्होंने कहा कि आलाकमान सात तारीख को आ रहे हैं. जब पूछा गया कि राहुल गांधी सात अक्टूबर को आ रहे हैं तो उन्होंने कहा कि वो सात तारीख को आ रहे हैं. कौशल्या माता के मंदिर में भगवान राम की मूर्ति के अनावरण के लिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया ने यह बताया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज