• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • छत्तीसगढ़: डॉक्टर्स ने 6 माह की बच्ची का किया लीवर ट्रांसप्लांट, सेंट्रल इंडिया में ऐसा पहली बार

छत्तीसगढ़: डॉक्टर्स ने 6 माह की बच्ची का किया लीवर ट्रांसप्लांट, सेंट्रल इंडिया में ऐसा पहली बार

डॉक्टर ने प्रेस कॉंफ्रेंस लेकर जानकारी दी.

डॉक्टर ने प्रेस कॉंफ्रेंस लेकर जानकारी दी.

Raipur News: बच्चों में होने वाले गंभीर रोग बिलारी अत्रेसिआ से ग्रसित 6 महीने की मासूम बच्ची का सफल लीवर ट्रांसप्लांट कर रायपुर के डॉक्टरों ने रचा कीर्तिमान. सेंट्रल इंडिया में पहली बार इस तरह के ऑपरेशन का किया दावा.

  • Share this:

रायपुर. कहते हैं डॉक्टर भगवान होते हैं. इस बात को साबित कर दिखाया है छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर (Raipur) के रामकृष्ण केयर अस्पताल के डॉक्टरों ने. 6 माह की बच्ची को पिता ने अपना लीवर देकर नया जीवन दान दिया है. इस अस्पताल के डॉक्टरों ने सफल ऑपरेशन कर मासूम बच्ची की जिंदगी बचा ली है. डॉक्टरों के मुताबिक इस तरह का सफल ऑपरेशन मध्य भारत में पहली बार किया गया है.

रायपुर के लव सिन्हा और उनकी पत्नी सीमा सिन्हा के घर के आंगन में किलकारी गूंजी तो परिवार वाले काफी खुश थे. मगर उनकी खुशियों पर तब ग्रहण लग गया, जब उन्हें पता चला कि उनकी मासूम गंभीर बीमारी से ग्रसित है. इस कारण मासूम ताक्षी का वजन 6 महीने में मात्र 5 किलोग्राम का था. डॉक्टरों ने जब जांच की तो पता चला कि वह गंभीर बीमारी बिलारी अत्रेसिआ से ग्रसित है.

डॉक्टरों के मुताबिक यह बीमारी बच्चों में जन्मजात होती है. यदि समय पर उपचार न मिले तो बच्चों की मौत भी हो जाती है. इसके बाद ही मासूम ताक्षी के ऑपरेशन की योजना बनी और रामकृष्ण अस्पताल के विशेषज्ञ सर्जनों ने लीवर ट्रांसप्लांट कर दिखाया. ऑपरेशन की सफलता से जितना ताक्षी का परिवार खुश है, डॉक्टर भी उतने ही प्रसन्न हैं. क्योंकि 6 महीने की बच्ची के सफल लीवर ट्रांसप्लांट का यह केस मध्य भारत में पहला है. रायपुर के लव सिन्हा और उनकी पत्नी सीमा सिन्हा की खुशियों का अब ठिकाना नहीं है.

क्या कहते है डॉक्टर?
इस जटिल किन्तु सफल ऑपरेशन का नेतृत्व करने वाले एमडी डॉ. संदीप दवे ने बताया कि यह बीमारी छत्तीसगढ़ और आसपास में आम बात है. जागरूकता की कमी की वजह से इसे लोग समझ नहीं पाते. सही ढंग से उपचार नहीं करा पाते और खर्च से डरते हैं. सरकारी योजना में कम एवं न्यूनतम दाम पर इसका उपचार होता है. साथ ही उन्होंने बताया कि डॉ मोहम्मद अब्दुल नईम और डॉ अजीत मिश्रा ने बच्ची का सफल लीवर ट्रांसप्लांट किया. पिता के लीवर के एक हिस्से को ट्रांसप्लांट कर लगाया गया. इस ऑपरेशन से एक मासूम बेटी को बचाने में पूरे चिकित्सक दल को सफलता मिली है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज