लाइव टीवी

छत्तीसगढ़ चुनाव: क्या चुनावी लाभ के लिए घटाए जा रहे हैं पेट्रोल के दाम, देखिए न्यूज 18 की चर्चा
Raipur News in Hindi

निलेश त्रिपाठी | News18Hindi
Updated: November 6, 2018, 1:34 PM IST
छत्तीसगढ़ चुनाव: क्या चुनावी लाभ के लिए घटाए जा रहे हैं पेट्रोल के दाम, देखिए न्यूज 18 की चर्चा
सांकेतिक फोटो.

छत्तीसगढ़ सहित पांच राज्यों में नवंबर और दिसंबर महीने में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. चुनावी समर में लगातार पेट्रोल और डीजल के दाम घट रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2018, 1:34 PM IST
  • Share this:
छत्तीसगढ़ सहित पांच राज्यों में नवंबर और दिसंबर महीने में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. चुनावी समर में लगातार पेट्रोल और डीजल के दाम घट रहे हैं. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पेट्रोल और डीजल की कीमतें दो महीने पुराने रेट से भी पीछे चली गयी है. पेट्रोल और डीजल दोनों के ही रेट लगभग समान हो गये हैं. रायपुर में एक लीटर पेट्रोल 76.59 रुपये में मिल रहा है. वहीं डीजल की कीमत 76. 55 रुपये प्रति लीटर है.

छत्तीसगढ़ में चुनाव से पहले लोगों को सस्ता पेट्रोल और डीजल मिल रहा है. क्या चुनावी समर में लाभ लेने के लिए पेट्रोल और डीजल के दाम कम किए जा रहे हैं. इसपर न्यूज 18 के एसोसिएट एडिटर धनवेन्द्र जायसवाल का कहना है कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि इसका लाभ चुनाव में सरकार लेना चाहती है. क्योंकि पिछले कुछ दिनों में कच्चे तेल के दामों में इतनी कमी नहीं हुई, जितना दाम कम किया गया है. सितम्बर माह में रायपुर में पेट्रोल के दाम 85.60 रुपये थे. कांग्रेस लगातार सरकार पर हमलावार थी. जनता भी इसको लेकर परेशान थी. ऐसे में चुनाव में इसका नुकसान हो सकता था.

ये भी पढ़ें: Chhattisgarh Election 2018: नारयणपुर में 62 नक्सलियों ने किया सरेंडर, देखिए चुनावी हलचल की LIVE खबरें

धनवेन्द्र जायसवाल कहते हैं कि इस बाद से इनकार नहीं किया जा सकता कि चुनाव के बाद पेट्रोल और डीजल के दाम एका-एक बढ़ जाए. जनता को इस नीति को समझना चाहिए. न्यूज 18 छत्तीसगढ़ के सीनियर रिपोर्टर देवव्रत भगत का कहना है कि कारण जो भी हो, लेकिन पेट्रोल और डीजल के दाम घटने से जनता खुश है. हालांकि जनता इस बात को समझती है. बातचीत में कई लोगों ने इस बात को स्वीकार किया है.

ये भी पढ़ें: चुनाव से ठीक पहले छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में 62 नक्सलियों ने किया सरेंडर

नक्‍सल हिंस और सरेंडर:- मंगलवार को छत्तीसगढ़ में नक्सलियों से जुड़ी अलग अलग घटनाएं हुईं. बीजापुर में नक्सलियों ने एक ग्रामीण की हत्या कर दी और चुनाव में शामिल नहीं होने से जुड़े पर्चे फेंके. दूसरी ओर नारायणपुर में 62 नक्सलियों ने एक साथ सरेंडर किया. इसको लेकर न्यूज 18 के सीनियर रिपोर्टर सुरेन्द्र सिंह का कहना है कि चुनावी समर में नक्सली सुरक्षा बलों के लिए चुनौती बने हुए हैं. लगातार वे कोई न कोई हिंसात्मक घटना को अंजाम दे रहे हैं, लेकिन चुनाव से ठीक पहले 62 नक्सलियों का एक साथ सरेंडर करना कहीं न कहीं सुरक्षा बलों का मनोबल बढ़ाने और नक्सलिनयों का मनोबल घटाने वाली घटना है.

ये भी पढ़ें: Exclusive: जो थे कभी ‘लाल आतंक’ के नुमाइंदे, अब कर रहे हैं लोकतंत्र की पैरवीचुनावी समर में और किन मुद्दों पर हुई बात, देखिए पूरा वीडियो.


ये भी पढ़ें - 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 6, 2018, 1:34 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर